कर्फ्यू से 800 करोड़ का कारोबार प्रभावित, औषधि और जीवनावश्क वस्तूओं की भी किल्लत

    अमरावती. शहर में बिते सप्ताह हुए सांप्रदायीक तनाव ने व्यापारी समुदाय को बुरी तरह प्रभावित किया है. कर्फ्यू में जीवनावश्यक वस्तुओं के अलावा अन्य दूकानों के बंद होने और इंटरनेट बंद होने से छह दिनों में कुल 850 करोड़ रुपये का नुकसान होने की बात व्यापारी संगठनों ने दी है. उनके अनुसार शहर में  30 से 35 प्रतिशत दवाओं और जीनावश्यक वस्तुओं की किल्लत भी हुई. 

    व्यापारी वर्ग की कमर टूटी

    कोरोना महामारी के कारण डेढ वर्ष में वैसे ही व्यापारियों की कमर टूट चुकी है. ऐसे में इस दीपावली के बाद जैसे तैसे व्यापारी संभल रहा था. लेकिन 12 व 13 नवंबर को हुए सांप्रदायीक तनाव और हिंसा के बाद लागू कर्फ्यू ने व्यापारियों के नुकसान में और इजाफा कर दिया है. शहर से सेटे सिटीलैंड, बिजी लैंड जैसे बड़े टेक्सटाइल व्यापारी संकुल भी बंद रहे. कर्फ्यू का शहर के सभी व्यवसायों पर विपरीत प्रभाव पड़ा है. शहर में रोजाना एक सौ से डेढ़ सौ करोड़ का कारोबार होता था.

    इनमें से पंद्रह से बीस प्रतिशत व्यवसाय ऑनलाइन चलता हैं. लेकिन कर्फ्यू और इंटरनेट सेवाओं की वजह से छह दिनों में शहर को 800 से 850 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है. व्यापार संघ के अनुसार जीवनावश्यक वस्तुओं व दवा की दूकानें शुरू होने के बावजूद शहर में 30 से 35 प्रतिशत माल की किल्लत हुई है. इसलिए शहर का व्यापार पूर्ववत होने के लिए दोनों समुदायों के भाइयों से शांति की अपील व्यापार संगठनों ने की है.

    दिनभर में सवा करोड का कारोबार

    शहर का दैनिक कारोबार 100-125 करोड रुपये का है. कोरोना काल में व्यापारियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा. अब हिंसा के चलते लगाए गए कर्फ्यू से व्यापारियों को काफी नुकसान हुआ है. छह दिन के कर्फ्यू से कुल 800 करोड़ रुपये से 850 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.- सुरेश जैन, अध्यक्ष, चैंबर ऑफ कॉमर्स

    औषधि व्यापारी का भी नुकसान

    कर्फ्यू के चलते पिछले एक हफ्ते से शहर बंद है. इसके चलते शहर में दवाओं की आपूर्ति ठप हो गई है. आठ दिन पहले डिलीवर किए गए सामान का ऑर्डर दे दिया गया है. लेकिन माल तैयार होने के बाद भी दवा की दूकानों तक सामान नहीं पहुंच पाया है. इससे दवाओं की 30 फीसदी कमी हो गई है. औसतन पूरा शहर 15 से 20 करोड़ रुपये के औषधि व्यापार की चपेट में है।- प्रमोद भारतीय, सचिव, केमिस्ट एण्ड ड्रग्स असोसिएशन