Bullet train
File Photo

    अमरावती. निर्माणाधीन समृद्धि महामार्ग से सटकर मुंबई से नागपुर के बीच हाई स्पीड रेल कारिडोर यानी बुलेट ट्रेन के लिए लगभग 6 माह पूर्व मार्च में अत्याधुनिक लिडार प्रणाली के जरिए सर्वेक्षण किया गया. इस महत्वकांक्षी प्रोजेक्ट के सूक्षम नियोजन के लिए पालकमंत्री एड. यशोमति ठाकुर शीघ्र ही मीटिंग लेंगी.यह बुलेट ट्रेन जिले के तीन तहसीलों से गुजरेगी, लेकिन यहां कोई स्टापेज का प्रावधान नहीं किया गया है. पालकमंत्री यशोमति ने स्टापेज के लिए भी हर संभव प्रयास करने की बात स्पष्ट की है.   

    डीपीआर बनाने मार्च में हुआ सर्वे

    नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) द्वारा इस वर्ष मार्च माह में बुलेट ट्रेन के पूरे रूट का लिडार सर्वेक्षण किया गया. इस प्रोजेक्ट की डिपीआर (डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट) बनाने के लिए विशेष विमान से यह सर्वेक्षण हुआ. मूलत: अमरावती के नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के महाप्रबंधक (संचालन) पंकज उके इस सर्वेक्षण टीम में शामिल थे. लिडार सर्वे में विमान को लिडार और फोटो, वीडियो लेनेवाले सेंसर लगे होते है.

    इससे प्रस्तावित रेलवे लाइन के आसपास 150 मीटर तक के क्षेत्र का हवाई फिल्मांकन किया जाता है. इसमें 100 मेगापिक्सल का कैमरा इस्तेमाल किया जाता है. फिर इसका 3 डी मैप बनाया जाता है. इसमें सड़क के चारों ओर की इमारतों, पहाड़ों, पेड़ों आदि जैसी सभी सूक्ष्म चीजों को लंबाई, चौड़ाई और ऊंचाई अनुसार थ्रीडी में देखा जा सकता है. इसके साथ ही, यात्रियों की संख्या और अन्य सर्वेक्षण किया गया था. 

    12 स्टापेज होंगे

    प्रस्तावित 741 किलोमीटर बुलेट ट्रेन प्रकल्प में कुल 12 स्टापेज होंगे. इनमें नागपुर, वर्धा, पुलगांव, कारंजा लाड, मालेगांव, मेहकर, जालना, औरंगाबाद, शिर्डी, नासिक, इगतपुरी और शाहपुर आदि शहरों का समावेश है. अमरावती जिले के नांदगांव खंडेश्वर, चांदूर रेलवे और धामणगांव रेलवे तहसील से यह ट्रेन गुजरेगी. लेकिन जिले में कोई स्टापेज नहीं दिया गया. वाशिम जिले का कारंजा लाड तथा वर्धा जिले का पुलगांव जिले से सटे स्टेशन होंगे. इन स्टेशनों का उल्लेख नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) की आधिकारीक वेबसाईट पर भी है.

    सूक्ष्म नियोजन हेतु शीघ्र मीटिंग

    बालासाहब ठाकरे समृद्धि महामार्ग से सटकर मुंबई-नागपुर हाईस्पीड रेल कारिडोर (बुलेट ट्रेन) का प्रस्तावित प्रोजेक्ट जिले की तीन तहसीलों से होकर गुजर रहा है. यह जिले के लिए विकास की ट्रेन साबित हो. इस दिशा में स्टापेज के लिए हर संभव प्रयास किए जाएंगे. साथ ही सूक्ष्म नियोजन के लिए जल्द ही संबंधित विभाग के साथ मीटिंग लेकर समीक्षा करेंगी. -एड. यशोमति ठाकुर, पालकमंत्री 

    अब तक कोई दिशा निर्देश नहीं

    बुलेट ट्रेन प्रकल्प को लेकर सरकार से अब तक कोई दिशा निर्देश प्राप्त नहीं हुए है. कोई सूचना प्राप्त होते ही प्राथमिकता से काम शुरू किया जाएगा.- डा.नितिन व्यवहारे, निवासी उपजिलाधीश