sports-complex
File Pic

    अमरावती. राज्य के क्रीड़ा मंत्री सुनील केदार के ड्रीम प्रोजेक्ट अंतरराष्ट्रीय क्रीड़ा विश्वविद्यालय की नवगठित नियामक परिषद में श्री शिवाजी बीपीएड कालेज की प्राचार्य डा. अंजलि ठाकरे को सदस्य नियुक्त किया गया है. संपूर्ण विदर्भ से अंजलि ठाकरे एक अकेली सदस्य मनोनीत हुई है. शनिवार को ही उन्हें इस नियुक्ति का पत्र प्राप्त हुआ है. 

    राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर किया है नेतृत्व 

    पुणे स्थित बालेवाड़ी के शिवछत्रपति क्रीड़ा संकुल में स्थापित होने जा रही इंटरनैशनल स्पोर्ट यूनिवर्सिटी की नियामक परिषद पर कुल मिलाकर 9 सदस्यों की नियुक्ति की घोषणा राज्य सरकार ने की है. जिसमें भारतीय राष्ट्रीय फुटबाल संघ के पूर्व गोलकिपर हेन्नी मेनेजिस, रम्बी खिलाड़ी व फिल्म अभिनेता-दिग्दर्शक राहुल बोस, प्र-उपकुलपति विद्या येरवडेकर, मुंबई के विल्सन कालेज के पूर्व प्रोफेसर रत्नाकर शेट्टी, अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी निलेश कुलकर्णी.

    शालेय शिक्षा व क्रीड़ा विभाग के अपर मुख्य सचिव, क्रीड़ा व युवक सेवा संचालनालय के आयुक्त, श्री शिवाजी शारीरिक शिक्षा महाविद्यालय की प्राचार्य डा. अंजलि ठाकरे व अंतरराष्ट्रीय शूटिंग खिलाड़ी अंजलि भागवत का समावेश है. विदर्भ से एक अकेली अंजलि ठाकरे को यह सम्मान मिलने से श्री. शिवाजी शिक्षा संस्था व्दारा संचालित बीपीएड कालेज के साथ ही अंबानगरी का नाम चमका है.

    जिला परिषद के पूर्व सदस्य व कांग्रेस पदाधिकारी व भुयार चेरिटैबल एण्ड रेलीजियस ट्रस्ट के अध्यक्ष शरदराव भुयार की बेटी है. डा. अंजलि ने शारीरिक शिक्षा में ही पीएचडी की है. पिछले 3 वर्षों से शिवाजी बीपीएड की प्राचार्य हैं. उन्होंने बताया कि बचपन से ही पिता शरादराव को क्रिकेट व हाकी का शौक था.

    उनके पिता अमरावती विवि में प्रतिनिधित्व भी कर चुके है. राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नेतृत्व व अमरावती विवि में महिला क्रिकेट टीम की कैप्टन रह चुकी है. अंजलि ठाकरे 1995 में लंदन में क्रिकेट खेलने गई थी. नियामक परिषद में क्रिकेट कोटे से ही उनका यह चयन हुआ है.  

    ओलंपिक का लक्ष्य     

    ओलंपिक में महाराष्ट्र की ओर से शानदार प्रदर्शन हेतु उम्दा खिलाड़ी तैयार करने का लक्ष्य पूरा करने के लिए राज्य में यह अंतरराष्ट्रीय क्रीड़ा विश्वविद्यालय साकार की जा रही है. कई देश क्रीड़ा क्षेत्र को लेकर व्यापक दृष्टिकोण से शालेय शिक्षा के साथ ही खेल को विशेष महत्व दे रहे है. जिसमें जापान, कोरिया, जर्मन, न्यूजीलैंड जैसे देशों का समावेश है.

    इसी क्रम में महाराष्ट्र सरकार ने भी यह सराहनीय पहल की है. स्पोर्ट यूनिवर्सिटी को साकार करने के लिए प्राथमिक स्तर पर 400 करोड़ का बजट बनाया गया है. विवि स्थापना के बाद पहले वर्ष स्पोर्टस सायन्स, स्पोर्टस टेक्नालाजी व स्पोर्ट कोचिंग व ट्रेनिंग इस तरह 3 पाठ्यक्रम शुरू किये जाएंगे. इसके लिए प्रत्येक पाठ्यक्रम में 50 विद्यार्थी प्रवेश संख्या निश्चित की है.