APMC
file

    अमरावती.  जिले की कृषि मंडियों का कार्यकाल फिर एक बार 3 महिने के लिए बढ़ाया गया है. यह निर्णय जिले की 12 में से 9 बाजार समितियों के लिए लागू होगा. तथा नांदगांव खंडेश्वर, धामणगांव रेलवे व अंजनगांव सूर्जी में प्रशासक राज कायम रहेगा. शेष 9 बाजार समितियों के संचालकों की इस आदेश के चलते लगातार छठवीं बार बल्ले – बल्ले हो गई है. 

    23 अप्रैल तक रहेगा कार्यकाल

    जिले की 12 कृषि उत्पन्न बाजार समितियों के संचालक मंडलों का कार्यकाल वर्ष 2020 में खत्म हो चुका है. किंतु कोविड संक्रमण के खतरे को देखते हुए एक वर्ष तक चुनावों को स्थगित करने का निर्णय लिया गया था. जिसके चलते संचालक मंडलों को अपने आप ही समयावृध्दि मिल गई थी. हालांकि इसमें से नांदगांव खंडेश्वर, धामणगांव रेलवे व अंजनगांव सूर्जी की बाजार समितियों पर प्रशासक की नियुक्ति की जा चुकी थी.

    इन तीनों बाजार समितियों सहित सभी बाजार समितियों में चुनाव करवाने की तैयारी जारी रहने के दौरान ही कोविड संक्रमण की पहली लहर शुरू हो जाने के चलते 24 जनवरी 2020 को पहली बार 6 माह की समयावृध्दि दी गई, जो 23 जुलाई 2020 को खत्म हुई. किंतु इस समय भी संक्रमण का असर जारी था. ऐसे में 24 जुलाई को दूसरी बार छह माह की समयावृध्दि दी गई.

    ऐसे में करीब एक साल तक संचालक मंडल को जीवनदान मिलने के बाद गत वर्ष चुनाव होने को लेकर उम्मीदें जागी ही थी कि, कोविड संक्रमण की दूसरी लहर की वजह से 24 जनवरी 2021 को एक बार फिर तीन माह के लिए चुनाव को आगे टाल दिया गया. यह अवधि 24 अप्रैल को खत्म हुई, लेकिन इस बार भी दुबारा 6 माह के लिए मंडी संचालकों को छह माह की समयावृध्दि दी गई और चुनाव आगे टल गये. यह अवधि 23 अक्तूबर को खत्म हुई और इस बार चुनावी सरगर्मियां शुरू हुई.

    लेकिन इसी दौरान उच्च न्यायालय की औरंगाबाद खंडपीठ द्वारा दिये गये एक आदेश के चलते चुनावी कार्यक्रम को स्थगित कर दिया गया. साथ ही पहले सेवा सहकारी संस्थाओं के चुनाव तथा बाद में बाजार समिती के चुनाव का कार्यक्रम तय किये जाने के चलते 23 अक्तूबर 2021 को पांचवी बार मंडी संचालकों को समयावृध्दि दी गई. तीन माह की यह समयावृध्दि रविवार 23 जनवरी को खत्म हो रही है.

    ऐसे में पांच बार समयावृध्दि प्राप्त संचालकों को छठवीं बार समयावृध्दि मिलती है अथवा फसल मंडियों में प्रशासक की नियुक्ति होती है, इसे लेकर विगत कई दिनों से संभ्रम व उत्सूकता का माहौल था. किंतु गत रोज ही राज्य सरकार द्वारा एक आदेश जारी जिले की 9 बाजार समितियों के संचालकों को छठवीं बार तीन माह की समयावृध्दि दी गई है. ऐसे में अब इन 9 बाजार समितियों का मौजूदा संचालक मंडल 23 अप्रैल 2022 तक कार्यरत रहेगा.