वेंटीलेटर में बंद होने से मरीज की मौत, लापरवाही बरतने का आरोप

Loading

अमरावती. जिला सरकारी अस्पताल के अति दक्षता कक्ष (आयसीयु) से विष प्राशन करने वाले एक मरीज को नागपुर ले जाते समय एम्बुलेंस का वेंटीलेटर में तकनीकी खराबी के कारण बंद होने से आक्सीजन के अभाव में मरीज ने दम तोड़ दिया. सोमवार को मृतक के परिजनों ने जिला स्वास्थ्य प्रशासन पर घोर लापरवाही करने का आरोप लगाया. जिसमें संबंधितों पर कार्रवाई करने की मांग की गई.  जिससे यहां तनाव बन गया था. मृतक नंदु काठोले (कारला, अंजनगांव सुर्जी) है.

4 दिन से चल रहा था उपचार

4 दिन पहले विष प्रशान करने से नंदु काठोले को इलाज के लिए जिला सरकारी अस्पताल में भर्ती किया था. जिससे उसके स्वास्थ्य में सुधार हुआ, हाथ व पैर ठीक से काम कर रहे थे, लेकिन गला व गर्दन ना हिलाने से डाक्टरों ने नागपुर मेडिकल कालेज में आपरेशन करने की सलाह दी थी. जिसके लिए सोमवार को आयसीयू से रेफर किया था. जिसे वेटीलेटर वाली एम्बुलेस में ले जाने की सलाह डाक्टरों ने दी थी. इस बीच एम्बुलेंस बुलाई गई. आयसीयू से मरीज को निकालकर वेटीलेटर वाली एम्बुलेस में डाला गया. लेकिन एम्बुलेस का वेटीलेटर तकनीकी कारणों से अचानक बंद हो गया. जिससे आक्सीजन के अभाव में नंदु काठोले की मौत हो गई. ऐसा आरोप रिश्तेदारों ने लगाकर रोष व्यक्त किया. 

लापरवाही से गई जान

नंदु काठोले को आगे के उपचार के लिए नागपूर ले जाने की सलाह इर्विन के डॉक्टरों ने दी थी, जिसके बाद वेंटीलेटर वाली एम्बुलेस से नागपूर ले जाना था, लेकिन  वेंटीलेटर में तकनीकी खराबी आ गई. जिससे नंदु काठोले की मौत हो गई. यह लापरवाही है. 

-अरुण पडोले, जिलाप्रमुख, शिवसेना