Aurangabad took off in the National Level Cycle for Change Challenge, the Central Government praised

    औरंगाबाद.  शहर (City) के लिए एक और अन्य उल्लेखनीय उपलब्धि में स्मार्ट सिटीज मिशन (Smart Cities Mission) द्वारा आयोजित राष्ट्रीय स्तर की साईकिल फॉर चेंज चैलेंज (National Level Cycle for Change Challenge) में औरंगाबाद (Aurangabad) ने जूरी का विशेष उल्लेख जीता। औरंगाबाद अब चुनौती के चरण 2 के लिए चयनित 25 शहरों में से एक है।

    औरंगाबाद स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कार्पाेरेशन लि. (एएससीडीसीएल) के सीईओ और औरंगाबाद महानगरपालिका के प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय ने बताया कि औरंगाबाद 20 किलोमीटर से अधिक पैदल पथ सहित साईकिल ट्रैक बनाने के लिए प्रतिबद्ध है। पांडेय ने कहा कि देश के 107 शहरों में से विशेष जूरी के लिए चयन औरंगाबाद के नागरिकों के लिए एक बड़ी उपलब्धि है। लेकिन, अभी शहर के विकास के लिए बहुत कुछ कार्य करना  बाकी है। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी टीम योजना के अनुसार कार्य कर रही है। औरंगाबाद ने दिल्ली, मुंबई, पुणे और चैन्नई जैसे मेट्रो शहरों को पीछे छोड़ते हुए साईकिल फॉर चेंज में यह उपलब्धि हासिल की है।

    जुलाई 2020 में कोविड-19 के संक्रमण के जवाब में भारत सरकार के आवास और शहरी मामलों के मंत्रालय के तहत स्मार्ट सिटीज मिशन द्वारा साईकिल 4 चेंज  चैलेंज शुरु किया गया था। चुनौती के एक हिस्से के रुप में स्मार्ट सिटीज मिशन शहरों को साईकलिंग के लिए सुविधा जनक और सुरक्षित बनाने के के लिए प्रेरित करना चाहता था। 10 लाख से अधिक जनसंख्या वाले 117 शहर साईकिल फॉर चेंज चैलेंज के लिए पंजीकृत हुए। चुनौती के एक हिस्से के रुप में शहरों ने कम से कम एक पायलट साईकिल ट्रैक विकसित करने और नागरी बस्तियों के स्थान पर साईकिल चलाना सुरक्षित करने के लिए हस्ताक्षेप करना अपेक्षित है।

    क्रांति चौक से रेलवे स्थानक  प्रथम  संरक्षित साईकिल लेन विकसित

    प्रशासक पांडेय के नेतृत्व में शहर के क्रांति चौक से रेलवे स्थानक तक शहर में  प्रथम संरक्षित साईकिल लेन विकसित की गई। जिले के पालकमंत्री सुभाष देसाई के उपस्थिति में और राज्य के पर्यटन  मंत्री आदित्य ठाकरे के हाथों साईकिल लेन का जनवरी माह में उदघाटन किया गया था। सिडको एन-1 के अति परिचित क्षेत्र में स्टेकहोल्डर मिटिंग्स, स्ट्रीट पेंटिंग, टै्रफिक आईलैंड की मरम्मत और सेल्फी पॉईंट के निर्माण जैसे साईकिल-अनुकूल हस्तक्षेप किए गए थे।

    औरंगाबाद पश्चिम के विधायक संजय सिरसाठ का महत्वपूर्ण मार्गदर्शन इस कार्य के लिए मिला। औरंगाबाद जिला संगठन, साईकलिंग फाउंडेशन औरंगाबाद, गेट गोईंग और अर्बन रिसर्च फाउंडेशन और अन्य गुटों के सहकार्य से निर्णय लेने और  उस पर अंजाम देना के लिए मदद की। औरंगाबाद स्मार्ट सिटी को औरंगाबाद महानगरपालिका और औरंगाबाद शहर पुलिस की ओर से साईकिल फॉर चेंज चैलेंज में बड़ा  समर्थन हासिल हुआ। एएससीडीसीएल के अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरुण शिंदे और डिप्टी सीईओ पुष्कल शिवम के मार्गदर्शन में यह प्रकल्प चलाया जा रहा है। फरवरी में औरंगाबाद को प्रथम चरण के 25 शहरों में से चुना गया। बुधवार को आवास और शहरी व्यवहार मंत्रालय ने (एमओएचयूए)  बाजी मारे शहरों की घोषणा की। एमएचयूए के सचिव दुर्गा शंकर मिश्रा, सहसचिव कुणाल कुमार और राहुल कपूर ने यह काम साध्य करने के लिए औरंगाबाद शहर के प्रयासों की प्रशंसा की।