BJP committed to the development of Aurangabad, the next mayor will be of BJP: Sanjay Kenekar

    औरंगाबाद. भाजपा पदाधिकारी (BJP Office Bearer) और कार्यकर्ता देश सहित महाराष्ट्र के विकास के लिए रात दिन परिश्रम कर रहे  है। अपने शहर का विकास करने के लिए हम सब मिलकर पूरी ताकत झकझोर देंगे। सभी प्रभागों में भाजपा (BJP) के  उम्मीदवार मैदान में उतारकर अपने दम पर चुनाव लडेंगे। भाजपा शहर (BJP City) के विकास के लिए कटिबध्द हैं।

    शहर में पिछले कुछ सालों में जो विकास हुआ, वह भाजपा के चलते हुआ है। भाजपा की  विकास की राजनीति से औरंगाबाद (Aurangabad) वासी काफी प्रसन्न है। जिसके चलते औरंगाबाद का अगला महापौर (Mayor) भाजपा का होगा। यह दावा भाजपा के शहराध्यक्ष संजय केणेकर ने किया।भाजपा पदाधिकारियों की बैठक शहर के कुलस्वामिनी मंगल कार्यालय में संपन्न हुई।

    प्रशनों को हल करने को प्राथमिकता दे

    मंच पर विधायक अतुल सावे, प्रदेश उपाध्यक्ष बसवराज मंगरुले, प्रदेश सचिव प्रवीण घुगे, जिला महासचिव समीर राजूरकर, शिवाजी दांडगे, राजू शिंदे उपस्थित थे। अपने विचार में शहराध्यक्ष केणेकर ने कहा कि आगामी महानगरपालिका चुनाव को लेकर पदाधिकारियों ने कार्यकर्ताओं को घर-घर संपर्क बनाए रखने के लिए पहल करें। उनके प्रशनों को हल करने को प्राथमिकता दे। कोरोना काल में भाजपा पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने बड़े पैमाने पर जनता सेवा की। जिसके चलते जनता की राय भाजपा के फेवर में है। इसलिए आगामी काल में होनेवाले महानगरपालिका चुनाव को लेकर कार्यकर्ता कड़ी मेहनत करें। ताकि, अगला महापौर भाजपा का विराजमान हो। 

    शिवसेना पर साधा निशाना 

    केणेकर ने शिवसेना का नाम लिए बिना कहा कि जिस पार्टी ने शहर को 14 मेयर दिए, उसी दल के गंदी राजनीति के चलते बीते कई सालों से शहर के प्रशन हल नहीं हो पाए है। उन्होंने आरोप लगाया कि महानगरपालिका की तिजोरी में सेंध लगाने के लिए महाविकास आघाडी  के नेता हमेशा प्रयासरत रहते है। सरकार की लापरवाही से आज शहर में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है।

    शहर में पिछले कुछ सालों में विकास के लिए जो कुछ निधि उपलब्ध हुआ, उसका सारा श्रेय राज्य के तत्कालीन मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस को जाता  है। उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य के वर्तमान मुखिया उध्दव ठाकरे ने शहर के विकास के लिए किसी प्रकार की मदद नहीं की। बैठक में महिला मोर्चा की अध्यक्ष अमृता पालोदकर, अनिल मकरिए, संजय जोशी, शिरीष बोरालकर, जालिंदर शेंडगे, प्रमोद राठोड, दिलीप थोरात, एडवोकेट माधुरी अदवंत, आरुण पालवे, रवि एडके आदि पदाधिकारी उपस्थित थे।