CM Uddhav Thackeray will hold an important meeting with Top police officials regarding women's safety in Maharashtra and Mumbai
File

    औरंगाबाद. आजादी का अमृत महोत्सव (भारत की स्वतंत्रता के 75वें वर्ष का उत्सव) वर्ष में औरंगाबाद जिले के निजामकाल के जर्जर हो चुके स्कूलों का स्वरुप बदलने वाला है। इसी के साथ शहर के सभी सड़कों की स्थिति में तत्काल सुधार किया जाएगा और साथ ही सतारा-देवलाई में भूमिगत गंदा पानी (अंडरग्राउंड सीवेज) निकासी की समस्या भी दूर की जाएगी। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज अपने सरकारी आवास वर्षा बंगले में आयोजित एक बैठक में औरंगाबाद के विभिन्न विकास कार्यों को फास्ट ट्रैक पर पूरा करने का निर्देश दिया। उसी तरह से मुख्यमंत्री ने राज्य की संस्कृति के प्रतीक श्री संत एकनाथ महाराज संतपीठ में पाठ्यक्रम शुरू करने के भी निर्देश दिए। इससे संत परंपरा और साहित्य का अध्ययन-संशोधन को करने को बढ़ावा मिलेगा। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि औरंगाबाद-अहमदनगर रेलवे लाइन को पूरा करने के लिए राज्य सरकार केंद्रीय रेल मंत्रालय के साथ फॉलोअप करेगी और साथ ही इस रेलवे लाइन को पूरा करने में सहयोग करेगी।

     औरंगाबाद जिले में विभिन्न विकास कार्यों परियोजनाओं का आज मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के समक्ष किया गया प्रेजेंटेशन संतपीठ यह एक विश्वविद्यालय बनना चाहिए। पैठण में श्री संत एकनाथ महाराज संतपीठ का इमारत  एवं हॉस्टेल (छात्रावास) बनकर तैयार है। लेकिन अभी तक प्रत्यक्ष रुप से पाठ्यक्रम शुरू नहीं हुआ है। मुख्यमंत्री के सामने इस बात को लाया गया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि संत साहित्य का अध्ययन करने वाले विद्यावाचस्पति शंकर अभ्यंकर जैसे विद्वानों को बुलाकर चर्चा करें। साथ ही ऐसे लोगों की भागीदारी से ही ट्रस्ट का पुनर्गठन करें। उन्होंने राज्य की संस्कृति के प्रतीक रहने वाले इस संतपीठ का शैक्षणिक वर्ष प्रारंभ करने की दृष्टि से कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। ठाकरे ने इस संतपीठ को विश्वविद्यालय बनाने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के पास भी फॉलो अप करने का भी निर्देश दिया।

    निजाम काल में बनाए गए स्कूलों का बदलेगा स्वरुप 

    औरंगाबाद जिला परिषद के अधिकार क्षेत्र में 144 स्कूलों की इमारतें निजाम काल की हैं, इनमें से अधिकांश जर्जर हो चुकी हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वतंत्रता के अमृत महोत्सव के अवसर पर इन स्कूलों के पुनर्निर्माण और मरम्मत का एक स्थायी कार्यक्रम तैयार करके कुछ ठोस और सदैव बने रहने वाला काम किया जाए।

    औरंगाबाद शहर की सड़कों में होगा सुधार 

    इस अवसर पर महानगरपालिका कमिश्नर पांडे ने शहर में नए शामिल किए गए सतारा-देवलाई क्षेत्र में भूमिगत सीवरेज पर 382 करोड़ रुपये और शहर में विभिन्न प्रमुख सड़कों के डामरीकरण पर 317.22 करोड़ रुपये की फंड (निधि) की जरुरत होने की जानकारी दी है। इस पर मुख्यमंत्री ने शहरी विकास विभाग को महाराष्ट्र नगरोत्थान निधि (शहरी विकास कोष) से इन कार्यों को तत्काल पूरा करने का निर्देश दिया।

    स्वर्गीय बालासाहेब ठाकरे स्मारक और स्मृतिवन

    इस अवसर पर औरंगाबाद शहर के स्वर्गीय बालासाहेब ठाकरे स्मारक एवं स्मृतिवन के निर्माण कार्य की भी मुख्यमंत्री ने समीक्षा की। उन्होंने यह भी आशा व्यक्त की कि यह स्मारक स्थानीय वृक्षों का संपदा जनता के लिए और पक्षी पार्क के रूप में पहचाना जाना चाहिए।

    गुंठेवारी के मामलों का जल्द करें समाधान 

    महापालिका कमिश्नर ने कहा कि औरंगाबाद में गुंठेवारी प्रकोष्ठ स्थापित किया गया है और 52 संस्थाओं के माध्यम से विभागवार प्रस्ताव प्राप्त करने की कार्यवाही चल रही है। जिसके लिए मुख्यमंत्री ने गुंठेवारी को नियमित करने की प्रक्रिया में तेजी लाने और यह काम अगले कुछ महीनों में पूरा करने का निर्देश दिया है।

    औरंगाबाद सफारी पार्क

    औरंगाबाद सफारी पार्क को दुनिया का विशेष और अनूठा पार्क बनाने के लिए आज की बैठक में मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं। साथ ही ठाकरे ने यह भी निर्देश दिया कि इस पार्क मं  विभिन्न जानवर होने चाहिए। 

    औरंगाबाद-अहमदनगर रेलवे लाइन

     जिला अधिकारी चव्हाण ने कहा कि वर्तमान में औरंगाबाद-मनमाड-अहमदनगर रेल की दूरी 265 किलोमीटर है। इसके विकल्प के रूप में औरंगाबाद से अहमदनगर तक 112 किलोमीटर लंबी रेलवे लाइन प्रस्तावित की गई है और यदि यह लाइन बन जाती है, तो बड़े पैमाने पर उद्योग और व्यापार को बढ़ावा मिलेगा।मुख्यमंत्री ने केंद्रीय रेल मंत्रालय से इस नए लाइन के लिए तेजी से फॉलोअप करने का निर्देश दिया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार इस लाइन के लिए हर संभव सहयोग देगी।

    औरंगाबाद – शिरडी हवाई मार्ग

    हिंदू हृदय सम्राट बालासाहेब ठाकरे महाराष्ट्र समृद्धि महामार्ग का औरंगाबाद से शिरडी तक 112.40 किलोमीटर का काम तेजी पूरा किया जा रहा है। इसके साथ ही औरंगाबाद और शिरडी हवाई अड्डों को जोड़ा जाएगा। इस तरह की भी जानकारी दी गई। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि औरंगाबाद-शिरडी मार्ग पर विमान सेवा शुरू हो जाती है तो पर्यटकों को बहुत बड़ी सुविधा मिलेगी। इसलिए इस विकल्प पर भी विचार किया जाना चाहिए।

    घृष्णेश्वर मंदिर विकास, सिंथेटिक ट्रैक को ग्रीन सिग्नल

    घृष्णेश्वर मंदिर परिसर सभा मंडप के निर्माण के लिए मुख्यमंत्री ने फंड उपलब्ध कराने का भी निर्देश दिया है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि विभागीय खेल संकुल (स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स) में सिंथेटिक ट्रैक के काम में तेजी लाने के लिए टेंडर प्रक्रिया पूरी करें। 

    शीघ्र पूर्ण होंगे विकास कार्य – पालक मंत्री देसाई

    इस अवसर पर पालक मंत्री सुभाष देसाई ने कहा कि देश की आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर जिला परिषद के निजाम युग के इमारतों के स्कूलों की मरम्मत कर अच्छा संदेश देने का प्रयास किया जा रहा है। औरंगाबाद जिले के विकास कार्यों को तेजी से पूरा करने के साथ ह इसकी गुणवत्ता को बनाए रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि जिले में उद्योग, कृषि क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचे के विकास पर भी जोर दिया जाएगा।