Imtiaz Jalil

    औरंगाबाद. जिले के सांसद इम्तियाज जलील (MP Imtiaz Jalil) ने अतिवृष्टि से हुए नुकसान के पंचनामे कर नुकसान पीड़ित किसानों और ग्राम वासियों को सरकार स्तर पर आर्थिक मदद मिली है क्या ? इसका जायजा लेने के लिए जिले के कई तहसीलों का दौरा कर सभी विभागों की जायजा बैठक ली। जायजा बैठकों  के बाद अतिवृष्टि के चलते  किसानों का बड़े पैमाने पर नुकसान होने के कारण सांसद जलील ने मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे को एक पत्र लिखकर औरंगाबाद जिले को तत्काल गिला सूखा घोषित करने की मांग की। 

    सांसद जलील ने सीएम ठाकरे को भेजे पत्र में बताया कि जिले में अतिवृष्टि और जोरदार हवाओं के साथ नदी  नालों में बाढ़ आने से किसानों और  ग्रामवासियों का बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है। उन्होंने आरोप लगाया है कि महाविकास आघाडी के मंत्री, विधायकों ने कई गांवों का दौरा कर फोटो सेशन कर आगामी 8 से 10 दिन में सरकार की ओर से नुकसान पीड़ित किसानों को मदद का आश्वासन दिया था। किसानों  और  ग्राम वासियों को सरकार स्तर पर आर्थिक मदद मिली क्या ? जिले के सांसद के नाते मैंने जिले के कई गांवों का दौरा किया। इस दौरे में किसानों और ग्राम वासियों ने अपनी परेशानियों से मुझे अवगत कराया। 

    अतिवृष्टि से सभी फसलें तबाह 

    सांसद जलील ने सीएम ठाकरे को बताया कि अतिवृष्टि से खेतों में खड़ी सभी फसलें पूरी तरह बरबाद हुई। खेतों में 2 से 3 फिट पानी जमा होकर कई गड्ढे निर्माण हुए। जिससे फसलें पूरी तरह नष्ट हुई। अतिवृष्टि से खेत की जमीन  में गड्ढे निर्माण होने से वहां दूबारा फसलों का उत्पादन करना मुश्किल है। नैसर्गिक आपदा के चलते पूरी तरह उत्पादन होकर तैयार फसलें नष्ट हो चुकी है। जिसमें प्रमुख रुप से मूंग, उड़द, मक्का, तुअर, गन्ना आदि फसलें शामिल है। इन फसलों के नष्ट होने से  किसानों का करोड़ो रुपयों का नुकसान हुआ। अतिवृष्टि से जिले का किसान पूरी तरह टूट चुका है। यह नुकसान भरकर निकलना मुश्किल है। इसलिए औरंगाबाद जिले को गिला सूखा घोषित किया जाए। यह मांग सांसद जलील ने मुख्यमंत्री ठाकरे को भेजे पत्र में की।