Aurangabd MNS

  • मनसे का आंदोलन कल

औरंगाबाद. बीते एक माह से औरंगाबाद (Aurangabad) सहित मराठवाडा (Marathwada) में हुई भारी बारिश (Heavy Rain) के कारण फसलें पूरी तरह बर्बाद हुई हैं। फसले बर्बाद होने से किसान पूरी तरह टूट चुके हैं, परंतु आज तक राज्य की ठाकरे सरकार (Thackeray Government) ने किसानों को मदद करने के लिए कोई पहल नहीं की। मराठवाडा को गीला सूखा घोषित कर किसानों को तत्काल प्रति हेक्टेयर 50 हजार रुपए की मदद करने की मांग को लेकर मनसे के औरंगाबाद इकाई की ओर से आंदोलन मंगलवार को विभागीय आयुक्त कार्यालय के सामने किया जाएगा। यह जानकारी मनसे नेता दिलीप बापू धोत्रे, पार्टी के महासचिव संतोष नागरगोजे, मनसे प्रवक्ता प्रकाश महाजन, जिलाध्यक्ष सुहास दाशरथे ने दी।

मनसे नेताओं ने बताया कि किसानों को समाप्त करने का षडयंत्र महाराष्ट्र सरकार ने रचा है। अतिवृष्टि के चलते फसलें पूरी तरह बर्बाद हो चुकी है। दाशरथे ने बताया कि मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने राज्य सरकार को एक पत्र लिखकर कहा है कि पंचनामा का दिखावा ना करें। पंचनामा होते रहेंगे। सरकार तत्काल मराठवाडा को गीला सूखा घोषित करें। जिन किसानों के जानवर पानी में बह गए अथवा जान गंवाए, उन किसानों को प्रति जानवर 50 हजार की मदद तत्काल देने के अलावा किसानों को जल्द से जल्द आर्थिक मदद करने की मांग को लेकर मनसे की ओर से विभागीय आयुक्त कार्यालय के सामने मंगलवार को आंदोलन किया जाएगा। मनसे नेताओं ने कहा कि पहले कोरोना के चलते कई माह तक जारी रहे लॉकडाउन और अब अतिवृष्टि से किसानों की आर्थिक स्थिति  पूरी तरह कमजोर हो चुकी है। सिंचाई विभाग के गलत निर्णयों से किसानों का अतिवृष्टि में बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ। सरकार किसानों के हुए नुकसान से पूरी तरह अवगत है, इसके बावजूद सरकार किसानों को मदद करने से कतराने का आरोप मनसे नेता दिलीप बापू धोते, जिलाध्यक्ष दाशरथे ने लगाया।

मनसे की ओर से किसानों को दी जा रही मदद 

मनसे जिलाध्यक्ष दाशरथे ने बताया कि मनसे ने किसानों को मदद देना आरंभ किया है। मनसे नेता किसानों के बांधों पर जाकर उनके नुकसान को जानकर उन्हें मदद दे रहे हैं। अंत में मनसे नेता दिलीप बापू धोत्रे ने बताया कि मंगलवार को आयोजित आंदोलन में पार्टी के सभी जिलाध्यक्ष, तहसील अध्यक्ष, शहराध्यक्ष उपस्थित रहेंगे।