Due to the smart city project in Aurangabad, the Municipal Corporation launched a hammer in the Fort Ark complex

    औरंगाबाद : शहर के सिटी चौक से नौबत दरवाजा (Naubat Darwaza) किलेअर्क परिसर में अवैध रुप से निर्माण किए हुए अतिक्रमण महानगरपालिका के अतिक्रमण हटाव दल (Encroachment Removal Team) ने बुधवार (Wednesday) को निष्कासित किए। महानगरपालिका (Municipal Corporation) के अतिक्रमण हटाव विभाग द्वारा शहर के मुख्य व्यापार पेठ और वीआईपी  रास्ते को मिलने वाले 30 मीटर चौड़ी सड़क विकास योजना में बाधित और अन्य अतिक्रमण निष्कासित किए गए।

    शहर के ऐतिहासिक दरवाजे के निकट और पंचकुंआ कब्रिस्तान के निकट यह रास्ता सीधे रंगार गल्ली सिटी चौक से वीआईपी रोड को मिलता है। रास्ते के बीच एक बड़े पुल का निर्माण किया हुआ है। साथ ही ऐतिहासिक दरवाजा पंचकुआं कब्रिस्तान की करीबन 400 मीटर सुरक्षा दीवार भी निष्कासित की गई। दीवार निष्कासित करते समय कब्रिस्तान समिति के पदाधिकारियों ने विकास के लिए दीवार हटाने के लिए सहमति दी। उसके बाद जेसीबी की सहायता से दीवार हटाई गई। उसके बाद नए पुल से आगे निर्माण किए हुए 10 अवैध घरों पर बुलडोजर चलाया गया। इसमें चार घर सड़क पर अतिक्रमण कर निर्माण किए गए थे। किलेअर्क और पंचकुआं कब्रिस्तान परिसर के नागरिकों ने इस मुहिम में सकारात्मक प्रतिसाद देकर खुद से अतिक्रमण निकाले।

    इस स्थान पर अन्य कई घरों पर हतौडा चलाया गया। गौरतलब है कि ऐतिहासिक नौबत दरवाज और काला दरवाजा में सुशोभिकरण करने का काम स्मार्ट सिटी परियोजना के माध्यम से जारी है। दोनों दरवाजों के निकट स्थित सभी अतिक्रमण हटाने के आदेश महानगरपालिका प्रशासक आस्तिक कुमार पांडेय ने दिए है। पांडेय के आदेश पर बुधवार को अतिरिक्त आयुक्त रविन्द्र निकम के मार्गदर्शन में पदनिर्दशित अधिकारी वसंत भोये, सविता सोनवने, सिटी चौक थाना के एपीआई राहुल भंडारे, एपीआई सैयद मोहसीन, पदनिर्दशित अधिकारी आरएस राचतवार, इमारत निरीक्षक सैयद जमशेद, पंडित गवली, मजहर अली, रामेश्वर सुरासे, नगर रचना विभाग के कोंबदे, कारभारी घुगे, रितेश तुलसीबागवाले, बिजली विभाग के कर्मचारी आदि ने अतिक्रमण हटाव मुहिम में हिस्सा लिया।