Ganga of development flowing in Marathwada, MP Imtiaz Jaleel took a jibe at Uddhav Thackeray government

    औरंगाबाद. हर साल मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम (Marathwada Liberation War) 17 सितंबर को हर्षाेउल्हास (Enthusiasm) के साथ मनाया जाता है। इस साल मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम पर आयोजित मुख्य ध्वजारोहण समारोह (Flag Hoisting Ceremony) के लिए राज्य के मुखिया (State Chief) उध्दव ठाकरे (Uddhav Thackeray) औरंगाबाद (Aurangabad) पहुंच रहे है।

    राज्य सरकार के प्रयासों से मराठवाड़ा में आज तक बड़े पैमाने पर विकास होने का तंज कसते हुए जिले के एमआईएम सांसद इम्तियाज जलील ने  मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे का चिकलथाना एयरपोर्ट से मुक्ति संग्राम के मुख्य समारोह  स्थल सिध्दार्थ गार्डन तक उनका फूलों की बरसात कर जोरदार स्वागत करने का निर्णय लिया है। सांसद जलील के इस उपक्रम पर पुलिस भी सक्ते में है।

    सांसद इम्तियाज जलील ने मंगलवार को आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि पिछले 30 सालों से  मराठवाड़ा में शिवसेना ने बड़े पैमाने पर राज किया है। बीते  दिनों शिवसेना द्वारा एक बुकलेट जारी की गई थी। जिसमें शिवसेना के सहारे औरंगाबाद के महापौर पद पर सूख भोगे 14 महापौरों को उल्लेख कर उन्हें कतृत्ववान मेयर  बताया गया। इस पर सांसद जलील ने तंज कसते हुए कहा कि इतने साल शिवसेना ने सत्ता का भोगने के चलते ही आज शहरवासियों को प्रतिदिन पानी मिल रहा है। शहर की सड़के काफी बेहतर है। औरंगाबाद सहित मराठवाड़ा में विकास तेजी से जारी है।

    आज लाखों युवक बेरोजगार है

    जलील ने  तंज कसते हुए औरंगाबाद में हुए विकास कार्यों के विपरित आज  शहरवासियों को 4 से 5 दिन गैप देकर पानी मिल रहा है। कई इलाकों में गंदा पानी शहरवासी पीने के लिए मजबूर है। शहर के कई इलाकों के  सड़के अपनी दुर्दशा पर आंसू बहां रहे है। रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार द्वारा कोई कड़े कदम न उठाने से आज लाखों युवक बेरोजगार है। औरंगाबादवासी लगभग सभी मूलभूत सुविधाओं न मिलने से  त्रस्त है। इसके बावजूद शिवसेना द्वारा शहर सहित मराठवाड़ा में कई विकास कार्यों को पूरा करने के किए गए दावों पर सांसद जलील ने चूटकी लेते हुए कहा कि राज्य के  मुख्यमंत्री  के रुप में मराठवाड़ा के विलासराव देशमुख, अशोक चव्हाण ने कई सालों तक पद का सुख भोगा। 

    बैनर दिखाकर स्वागत करेंगे

    मराठवाड़ा सालों से शिवसेना का गढ़ रहा है। शिवसेना के मेहरबानी से आज मराठवाड़ा में विकास की गंगा बहने का तंज सांसद जलील ने बार बार कसते हुए 17 सितंबर को मनाए जानेवाले मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम के मुख्य समारोह में शिरकत करनेवाले राज्य के मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे का तुतारी बजाकर, फुलों की बरसात कर जोरदार स्वागत करने का निर्णय लिया है। सांसद जलील के इस अनोखे स्वागत उपक्रम में औरंगाबाद में स्थापित होनेवाला खेल विश्वविद्यालय पुणे स्थानांतरित करने के निर्णय पर भी उनका जोरदार स्वागत करने का निर्णय जलील ने लिए जाने की जानकारी दी। इसके द्वारा शिवसेना ने मराठवाड़ा में हुए जिन विकास कार्यों को पूरा करने का दावा किया, उन विकास कार्यों को पूरा करने को लेकर सांसद जलील मुख्यमंत्री ठाकरे को बैनर दिखाकर स्वागत करेंगे। 

    मुख्य समारोह में उपस्थित रहने की घोषणा 

    70 सालों पूर्व मराठवाड़ा को  रज़ाकारों से मुक्त किया गया था। उसके उपलक्ष्य में मराठवाड़ा मुक्ति संग्राम दिन मनाया जाता। बीते 7 सालों में शहर के 5 सालों तक विधायक रहने के साथ ही 2 सालों से जिले के सांसद रहने के बावजूद जलील मुक्ति संग्राम के मुख्य समारोह में आज तक उपस्थित नहीं रहे। लेकिन, इस साल जलील ने मुक्ति संग्राम के मुख्य समारोह में उपस्थित रहने की घोषणा की। 

    किसी प्रकार का आंदोलन नहीं होगा

    एक सवाल के जवाब में सांसद जलील ने बताया कि पुलिस ने एक पत्र जारी कर बताया कि मुक्ति  संग्राम के दिन किसी प्रकार का आंदोलन नहीं होगा। उन्होंने साफ किया कि सांसद और  एमआईएम की ओर से उस दिन किसी प्रकार का आंदोलन नहीं किया जा रहा है। बल्कि, मराठवाड़ा में  सत्ताधारियों के मेहरबानी से बह  रही विकास की गंगा पर मुख्यमंत्री उध्दव ठाकरे का स्वागत करने का निर्णय लिए जाने की जानकारी सांसद जलील ने दी।