औरंगाबाद महानगरपालिका की ओर से अनाधिकृत नल धारकों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई

    औरंगाबाद : ग्रीष्मकालीन मौसम में शहर में पेयजल आपूर्ति (Drinking Water Supply) की बड़े पैमाने पर निर्माण हुई पेयजल किल्लत (Drinking Water Shortage) को दूर करने के लिए महानगरपालिका प्रशासन (Municipal Administration) ने सख्त कदम उठाने शुरु किए है। इसमें प्रमुख रुप से अवैध नल कनेक्शन (Illegal Tap Connection) ढूंढकर उनके कनेक्शन कट करने के अलावा की गई कार्रवाई में कानूनी कार्रवाई (Legal Action) करते हुए अपराध दर्ज करने की प्रक्रिया शुरु की गई है। यह कार्रवाई महानगरपालिका के मुख्य लेखा अधिकारी संतोष वाहुलें के नेतृत्व में अवैध नल कनेक्शन धारकों को ढूंढकर उनके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए महानगरपालिका कमिश्नर आस्तिककुमार पांडेय (Municipal Commissioner Astikkumar Pandey) द्वारा गठित की विशेष दस्ते ने शुरु की है। 

    अब तक 23 अनाधिकृत नल कनेक्शनों पर केस दर्ज 

    मुख्य लेखा अधिकारी संतोष वाहुले ने बताया कि महानगरपालिका प्रशासन ने अवैध नल कनेक्शन धारकों के खिलाफ शुरु की विशेष मुहिम में शहर के हमालवाडा और सिल्क मील कालोनी परिसर में 23 अनाधिकृत नल कनेक्शन ढूंढ निकालकर उन पर मामला दर्ज करने की प्रक्रिया शुरु की गई है। उन्होंने बताया कि महानगरपालिका प्रशासन ने अवैध नल कनेक्शन धारकों के साथ-साथ कनेक्शन जोड़ने वाले प्लंबर पर भी मामले दर्ज करने की कार्रवाई शुरु की है। वाहुले ने शहर के नागरिकों से अपील की कि वे अपने अवैध नल कनेक्शन वैध करा ले। प्रशासन द्वारा शहर में निरंतर अवैध नल कनेक्शन ढूंढकर उन नल धारकों पर कानूनी कार्रवाई करने की प्रक्रिया जारी रहेंगी। इस कार्रवाई से बचने के लिए नागरिक महानगरपालिका प्रशासन को सहकार्य करते हुए तत्काल अपने नल कनेक्शन वैध करा ले। 

    अवैध नल कनेक्शन जोड़ने वाले प्लंबर के खिलाफ केस दर्ज होगा : आस्तिककुमार पांडेय

    बता दे कि शहर को पेयजल आपूर्ति करने वाले जायकवाडी बांध में पानी का स्टॉक भरपूर होने के बावजूद शहर के कई इलाकों में पेयजल आपूर्ति में बाधा आकर लोगों को एक-एक सप्ताह बाद पानी मिल रहा था। इस समस्या से नागरिकों को राहत पहुंचाने के लिए महानगरपालिका कमिश्नर और प्रशासक आस्तिककुमार पांडेय ने सख्त कदम उठाने शुरु किए है। इसमें अवैध नल कनेक्शन तोड़कर पानी चुराने वाले लोगों के खिलाफ अपराध दर्ज करना, अवैध नल कनेक्शन जोड़ने वाले प्लंबर पर मामले दर्ज करना। अनाधिकृत नल कनेक्शन दोबारा न जोड़ें जाए इस पर विशेष लक्ष्य केन्द्रीत करना यह ज़िम्मेदारी अवैध नल कनेक्शन ढूंढ ने के लिए प्रशासन द्वारा गठित विशेष दस्ते को दी गई है। उक्त आदेश का पालन कर विशेष दस्ते के प्रमुख और मुख्य लेखा अधिकारी संतोष वाहुले के मार्गदर्शन में उपअभियंता अशोक पदमे और कनिष्ठ अभियंता एनवी वीर, कनिष्ठ अभियंता रोहित इंगले, अमित पंडागले के दस्ते ने 23 अवैध नल कनेक्शन ढूंढ निकालकर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरु की है। यह जानकारी उपअभियंता अशोक पदमे ने दी। महानगरपालिका की इस कार्रवाई से शहर के अवैध नल कनेक्शन धारकों में खलबली मची है।