Vaccination
File Pic

    औरंगाबाद. महावितरण (Mahavitaran) ने कोविड प्रतिबंधक टीकाकरण (Vaccination) को गति दी है। अब तक राज्य में कार्यरत कुल 79.04 प्रतिशत कर्मचारियों का टीकाकरण पूरा हुआ है। इसमें 59 हजार 799 नियमित और आउटसोर्सिंग (Outsourcing) से लिए हुए कर्मचारी शामिल है। आगामी एक पखवाड़े में बचे हुए सभी कर्मचारियों का टीकाकरण पूरा करने के निर्देश महावितरण के अध्यक्ष और व्यवस्थापकीय संचालक विजय सिंघल ने दिए। यह जानकारी महावितरण के औरंगाबाद परिमंडल के जनसंपर्क अधिकारी ज्ञानेश्वर आर्दड ने दी।

    उन्होंने बताया कि गत डेढ़ साल से कोरोना महामारी के काल में सूचारु बिजली आपूर्ति करने के लिए दिन-रात और बिना आराम किए बिजली सेवा देनेवाले महावितरण के स्थायी व आउटसोर्सिंग कर्मचारियों को कोरोना टीका लगाने के लिए महावितरण के व्यवस्थापन की ओर से विशेष प्रयास जारी है। आर्दड ने बताया कि टीकाकरण के लिए विजय सिंघल ने राज्य के हर जिलाधिकारी से पत्रव्यवहार कर संपर्क किया है। जिसके  चलते अब तक 34 जिलों में बिजली कर्मचारियों को फ्रंटलाइन वर्कर्स की तरह दर्जा दिया गया। उसका फायदा टीकाकरण के लिए बड़े पैमाने पर हुआ।

    59 हजार 799 को लगाया गया टीका 

    पीआरओ आर्दड ने बताया कि महावितरण में कार्यरत 75 हजार 323 में से अब तक 59 हजार 799 नियमित और आउटसोर्सिंग कर्मचारियेां को टीके लगाए गए। इसमें सबसे अधिक बारामती परिमंडल में 91.2 प्रतिशत, पुणे और कोल्हापुर परिमंडल में 87.84 प्रतिशत, कल्याण में 85.9 प्रतिशत, औरंगाबाद में 84.1 प्रतिशत, कोंकण में 82.2 प्रतिशत, भांडूप में 81.5 प्रतिशत, नांदेड में 80.9 प्रतिशत, जलगांव में 90.2 प्रतिशत, अमरावती में 73.2 प्रतिशत, नागपुर में 74 प्रतिशत, अकोला में 73.02 प्रतिशत, नाशिक में 73.5 प्रतिशत, चन्द्रपुर में 71.05 प्रतिशत, गोदिंया में 70.04 प्रतिशत तथा लातूर परिमंडल में 65.9 प्रतिशत कर्मचारियों को टीके लगाए जाने की जानकारी पीआरओ आर्दड ने दी। उन्होंने बताया कि कर्मचारियों को टीका लगाने के लिए परिमंडल और मुख्यालय स्तर पर हर दिन जायजा लिया जा रहा है। उसके लिए 4 सदस्यीय कोरोना समन्वय कक्ष कार्यान्वित किया गया। कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच आगामी एक पखवाडे में बाकी सभी कर्मचारियों को टीका लगाने के निर्देश महावितरण के अध्यक्ष विजय सिंघल ने दिए है।