MP Bhagwat Karad

    औरंगाबाद. प्रधानमंत्री (Prime Minister) नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा आम जनता (General Public) के लिए शुरु की गई विविध योजनाओं (Various Schemes) का जायजा लेकर बैकिंग क्षेत्र में जनता के हित में निर्णय लेकर राष्ट्रीयकृत बैंकों (Nationalized Banks)  के आला अधिकारियों की बैठक पहली बार औरंगाबाद (Aurangabad) में आयोजित की गई है। अब तक यह बैंठक देश के मेट्रोपॉलिटिन शहरों (Metropolitan Cities) में होती थी। शहर के  पांच सितारा ताज होटल (Taj Hotel) में यह बैठक 16 सितंबर को आयोजित की गई है। यह जानकारी  केंद्रीय अर्थराज्यमंत्री (Union Minister of State for Economy) डॉ. भागवत कराड (Dr. Bhagwat Karad) ने आयोजित प्रेस वार्ता में दी।

    डॉ. कराड ने बताया कि बैठक में  देश के सभी राष्ट्रीय कृत बैकों के चैयरमैन, एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर, फायनान्स सेक्रेटरी, एडिशनल  सेक्रेटरी के अलावा नाबार्ड के चैयरमैन भी उपस्थित रहेंगे। बैठक में अर्थमंत्रालय के अंतर्गत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश के हर व्यक्ति का बैंक में खाता खोलने के लिए शुरु की गई जन धन योजना, उद्योजकों को 10 हजार से 10 लाख तक ऋण देने की शुरु की गई प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री सुरक्षा  योजना, डिजीटल ट्रांसफर और किसानों को राहत पहुुंचाने के लिए शुरु किए गए विविध योजनाओं का जायजा लेकर उन योजनाओं को गति देकर अधिक से अधिक आम आदमी और किसानों को राहत पहुंचाने वाले कई निर्णय बैठक में लिए जाएंगे।

    संबंधित विषयों पर पैनल डिसकशन 

    डॉ. कराड ने बताया कि दिन भर चलनेवाली बैठक में अर्थ विभाग से संबंधित विषयों पर पैनल डिसकशन भी होगा। बैठक में  एसबीआई बैंक के चैयरमैन, इंडियन बैंक एसोसिएशन के चैयरमैन के अलावा नई औद्योगिक नगरी दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रीयल कॉरिडर प्रोजेक्ट केे राष्ट्रीय संचालक अभिषेक चौधरी भी बैठक  प्रमुख रुप से उपस्थित रहेंगे।

    डीएमआईसी में नामचीन कंपनियों के उद्योग शुरु 

    केंद्रीय अर्थ राज्यमंत्री डॉ. भागवत कराड ने बताया कि शहर से सटे स्थापित किए गए  डीएमआईसी में देश के नामचीन कंपनियां अपना प्लांट शुरु कर  बैकों से उन्हें तत्काल कर्ज देने को लेकर भी बैठक में निर्देश दिए जाएंगे। अर्थ मंत्रालय का प्रयास है कि शहर से सटे शेन्द्रा के डीएमआईसी में बड़े-बड़े उद्योग आए। इसके अलावा बैठक में किसानों के लिए केंद्र सरकार द्वारा शुरु की गई विविध योजनाएं और ऋण को लेकर भी चर्चा की जाएगी। किसानों के प्रशनों पर चर्चा करने के नाबार्ड के चैयरमैन जीआर चिंतला के अलावा बैंक ऑफ महाराष्ट्र के सीईओ ए.एस राजीव को भी आमंत्रित किए जाने की जानकारी केंद्रीय अर्थ राज्यमंत्री डॉ. कराड ने दी।

    सीतारामण के मार्गदर्शन में संपन्न होगी

    एक सवाल के जवाब में डॉ. कराड ने बताया कि किसानों को अप्रैल से जून माह में फसल कर्ज की जरुरत होती है, उसी दरमियान बैकों के मैनेजर और अधिकारियों के ट्रांसफर किए जाते। जिससे किसानों को कर्ज पाने में कई दिक्कते आती है। यह तबादले जनवरी से मार्च के दरमियान करने के लिए अर्थमंत्रालय ने प्रयास शुरु किए है। अंत में डॉ. कराड ने बताया कि औरंगाबाद में राष्ट्रीय कृत बैकों के आला अधिकारियों की बैठक देश के अर्थमंत्री सीतारामण के मार्गदर्शन में संपन्न होगी। पत्रकार परिषद में भाजपा शहराध्यक्ष संजय केणेकर, डॉ. राम बुधवंत आदि उपस्थित थे।