बिजली के हर यूनिट की रकम वसूले, महावितरण के अध्यक्ष विजय सिंघल के सख्त निर्देश

    औरंगाबाद. महावितरण की ओर से बिजली खरीदकर सभी क्लास के बिजली ग्राहकों (Customers) को आपूर्ति करती है। बिक्री हुए बिजली के पैसे ग्राहकों से हर माह वसूल नहीं हो पाए तो बिजली निर्मिती कंपनियों की ओर से खरीदी गई बिजली की रकम अदा करना मुश्किल है। जिससे बिजली खरीदने में कई दिक्कते आ रही है। वसूली न होने से महावितरण कंपनी की आर्थिक स्थिति कमजोर हुई है। इसलिए बेची गई हर बिजली यूनिट की रकम हर माह बकाया सहित वसूल करने के सख्त निर्देश महावितरण कंपनी के अध्यक्ष और एमडी विजय सिंघल ने सोमवार को दिए।

    सिंघल ने महावितरण मराठवाड़ा के प्रादेशिक कार्यालय के औरंगाबाद, लातूर और नांदेड परिमंडल के अभियंताओं के साथ विशेष जायजा बैठक ली। बैठक में अधिकारियों को मार्गदर्शन करते हुए विजय सिंघल ने उक्त सख्त निर्देश दिए। इस अवसर पर महावितरण के औरंगाबाद प्रादेशिक कार्यालय के सह व्यवस्थापकीय संचालक डॉ. मंगेश गोंदावले, राजस्व विभाग के कार्यकारी संचालक योगेश गडकरी, औरंगाबाद परिमंडल के मुख्य अभियंता भुजंग खंदारे, लातूर परिमंडल के मुख्य अभियंता सुंदर लटपटे, नांदेड परिमंडल के मुख्य अभियंता दत्तात्रय पडलकर, प्रभारी महाव्यवस्थापक लक्ष्मीकांत राजेल्ली, अधीक्षक अभियंता और कार्यकारी अभियंता उपस्थित थे। 

    66 हजार करोड़ की राशि बकाया

    अध्यक्ष विजय सिंघल ने बताया कि राज्य में महावितरण कंपनी के बिजली ग्राहकों की ओर 66 हजार करोड़ की राशि बकाया है। साथ ही 50 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है। महावितरण कंपनी महानिर्मिती सहित अन्य बिजली निर्मिती कंपनियों की ओर से बिजली खरीदी  कर बिजली ग्राहकों को आपूर्ति कर रही है। महावितरण कंपनी को बिजली निर्मिती कंपनियों से खरीदी गई बिजली के पैसे, बिजली आपूर्ति का खर्च, मरम्मत कार्य, मूलभूत सुविधाएं और व्यवस्थापन के खर्च का सामना करना पड़ता है। बिजली निर्मिती कंपनियों को पैसे न देने पर बिजली खरीदना मुश्किल होता है। ऐसे में अधिकारी हर यूनिट की रकम वसूले। महावितरण के अधिकारियों और कर्मचारियों ने बिजली बिल की राशि वसूलने में लापरवाही की तो आनेवाले दिनों में महावितरण कंपनी का अस्तित्व खतरे में होने के संकेत भी सिंघल ने दिए।

    बिजली चोरों पर करें सख्त कार्रवाई 

    उन्होंने आगे कहा कि जिन इलाकों में बिजली चोरी अधिक है, वहां विशेष मुहिम चलाकर बिजली चोरों पर कानूनी कार्रवाई की जाए। बिजली बिल वसूली और बिजली चोरी पकड़ते समय कोई बाधाएं डालता हैं तो कंपनी के इंजीनियर और कर्मचारियों के साथ हमेशा महावितरण कंपनी का प्रशासन खड़ा होने का आश्वासन भी सिंघल ने दिया। बिजली बिल वसूली और बिजली चोरी पकड़ने में लापरवाही करनेवालों पर  कार्रवाई करने की चेतावनी भी सिंघल ने दी। अंत में उन्होंने कहा कि चीनी मिलों का पेराई मौसम शुरु हो रहा है। ऐसे में किसानों की ओर बकाया बिजली बिल वसूली के लिए चीनी मिलों के संचालकों से अभियंताओं ने समन्वय साधकर बिजली बिल वसूली के लिए प्रयास करने की सूचना भी महावितरण के अध्यक्ष सिंघल ने की।