The news of ED's raid on Aurangabad Waqf Board headquarters was told baseless, know what is the whole matter

    औरंगाबाद : पुणे में वक्फ भूखंड (Waqf Plot) मामले में प्रवर्तन निदेशालय (Enforcement Directorate) (ईडी ) ने गुरुवार को कई स्थानों पर छापेमारी (Raid) की। ईडी (ED) द्वारा  पुणे (Pune) में की गई  छापेमारी के बाद कुछ समाचार चैनलों और सोशल मीडिया पर महाराष्ट्र राज्य वक्फ बोर्ड के औरंगाबाद स्थित मुख्यालय पर भी ईडी ने छापेमारी की खबरें चलाई। इन खबरों को महाराष्ट्र  राज्य वक्फ बोर्ड के सीईओ (CEO) अनिस शेख (Anis Shaikh) ने गुरुवार शाम पत्रकारों से बातचीत करते हुए बेबूनियाद बताते हुए साफ करते हुए कहा कि वक्फ बोर्ड के औरंगाबाद  स्थित मुख्यालय पर ईडी ने किसी प्रकार की छापेमारी नहीं की है। 

    गौरतलब है कि राज्य वक्फ बोर्ड के पुणे कार्यालय द्वारा जिले के माण गांव में स्थित ताबूत इनाम इंडोमेंट ट्रस्ट के भूखंड घोटाला मामले में बीते माह बंड गार्डन  पुलिस थाना  में शिकायत लिखाई गई थी। वक्फ बोर्ड की जमीन को एक ट्रस्ट से संबंधित दिखाकर जिला प्रशासन से 7  करोड़ 76 लाख 98 हजार 250 रुपए  का डीडी  लिया गया था। उक्त डीडी इस मामले में लिप्त आरोपी इम्तियाज मोहम्मद हुसैन और चांद रमजान मुलानी ने मिलीभगत कर  ट्रस्ट के नाम पर जमा करने के बजाए अपने निजी बैंक खाते में जमा किया था।

    अधिकारी द्वारा दी गई शिकायत के बाद पुलिस ने शुरु की जांच 

    इस मामले में उन दोनों आरोपियों ने वक्फ बोर्ड को फंसाने को लेकर पुणे कार्यालय के वक्फ अधिकारी खुसरो खान और सर्फराज खान ने बंड गार्डन पुलिस थान में धोखाधड़ी की शिकायत लिखाई थी। जिसके आधार पर बंड गार्डन  पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुुरु की थी। जांच के दरमियान गुरुवार को  ईडी ने पुणे में उक्त मामले की जांच के लिए कई स्थानों पर  छापेमारी की। ईडी के उस छापेमारी के बाद औरंगाबाद में स्थित महाराष्ट्र राज्य वक्फ बोर्ड मुख्यालय पर भी ईडी ने छापे मारने की खबरें सोशल मीडिया और न्यूज चैनलों पर चलाई गई। इन खबरों को बोर्ड के सीईओ अनिस शेख ने बेबूनियाद बताते हुए कहा कि बोर्ड के पुणे अधिकारी द्वारा दी गई शिकायत के बाद पुलिस ने जांच शुरु की है। 

    वक्फ बोर्ड का कामकाज राज्य के अल्पसंख्याक मंत्रालय के अंतर्गत

    गौरतलब है की आर्यन खान ड्रग्ज मामले के बाद राज्य के अल्पसंख्याक मंत्री नवाब मलिक, एनसीबी और भाजपा के बीच घमासान युद्ध जारी है। वक्फ बोर्ड का कामकाज राज्य के अल्पसंख्याक मंत्रालय के अंतर्गत आता है। उस विभाग के मंत्री नवाब मलिक है। ईडी ने गुरुवार को पुणे में वक्फ भूखंड घोटाले के मामले में छापेमारी करने के बाद न्यूज चैनलों द्वारा इस कार्रवाई को नवाब मलिक वर्सस भाजपा दिखाया जा रहा है। लेकिन, भूखंड घोटाला मामले में वक्फ बोर्ड की ही शिकायत पर पुलिस द्वारा जांच के बाद ईडी के छापेमारी करने की जानकारी सामने आई है।