Stray Cattle
File Photo

    भंडारा. शहर में पार्किंग के लिए अलग जगह नहीं है. जिससे सड़क पर ही वाहन खडे किए जाते है. सडक तक फैली दुकानें, वाहनों की पार्किंग की वजह से सड़कें छोटी हो चुकी है. जिससे आवागमन में समस्या निर्माण हो रही है. इस परेशानी को जानलेवा बनाने का काम जानवरों के सड़क के बीचों बीच बैठने से हो रहा है. इससे नागरिकों को वाहन चलाते वक्त परेशानी का सामना करना पड रहा है.

    सड़क पर घूमते एवं बैठे रहने वाले जानवरों की वजह से स्थिति दयनीय है. इससे दुर्घटना का प्रमाण बढा है. भंडारा शहर में सड़कों की चौड़ाई कम है. पिछले कुछ सालों में सड़क किनारे दुकानों की संख्या बढ़ गयी है. इसके अलावा वाहनों की संख्या भी बढ़ गयी है. जिससे  वाहनों के पार्किंग का सवाल निर्माण हुआ है. पार्किंग के लिए खुली जगह नहीं है. इस संबंध में नागरी संगठन कई बार आवाज उठा चुके है. लेकिन नप. प्रशासन सुस्त बैठे है. सड़क में ठिय्या जमा कर बैठे जानवरों की समस्या का समाधान नहीं हुआ है.

    शहर के गांधी चौक, शास्त्री चौक, राजीव गांधी चौक, मुस्लिम लायब्ररी चौक, पोस्ट आफिस चौक, बसस्थानक परिसर में सड़क पर बीचोंबीच बैठे जानवरों को देखा जा सकता है. बाजार के दिन जानवरों की वजह से नागरिकों को हो रही परेशानी का कोई अंत नहीं है. रात में गाड़ी चलाना खतरे से खाली नहीं है. अभी बारिश की वजह से हुआ कीचड़, खुले जानवरों के समूह की वजह से सडक पर दुर्घटना हो रही है. वाहन पार्किंग की वजह से सड़क के आसपास की जगह घिरी रहती है. उसकी परेशानी वाहन चालकों को हो रही है. शहर में जानवरों का बंदोबस्त किया जाए ऐसी मांग हो रही है.