1048 आदिवासी परिवारों को खावटी योजना का लाभ

    • तहसील के 62 ग्रापं क्षेत्र के लाभार्थीयों का समावेश 

    लाखांदूर. अनु. जमाती प्रवर्ग के भूमीहीन, विधवा, परित्यक्ता, अपंग आदी आदिवासी परिवारों को सरकार द्वारा हर वर्ष खावटी योजना के तहत लाभ मंजुर किया जाता है. जिसके अनुसार इस वर्ष तहसील में  कुल 62 ग्रापं क्षेत्र के तहत कुल 1048 परिवारों को इस योजना का लाभ मंजुर किए जाने की जानकारी है.

    प्राप्त जानकारी के अनुसार जंगल क्षेत्र के आदिवासी परिवारों के लिए हर वर्ष सरकार के आदिवासी विभाग के तहत खावटी अनुदान योजना का लाभ दिया जाता है. उक्त लाभ अनु. जमाती प्रवर्ग के भूमीहीन, विधवा,  परित्यक्ता व अपंग, निराधार आदी परिवारों को इस योजना का लाभ मंजुर किया जाता है. 

    जिसके अनुसार इस वर्ष तहसील के कुल 1048 परिवारों को इस योजना का लाभ मंजुर कर खाद्यान्न का वितरण भी किया जा रहा है. इस दौरान लाभार्थी परिवारों को आदिवासी विभाग के तहत मटकी, चावली, चना, तुवर दाल, उडद दाल, नामक, मसाला पावडर तेल, सहित अन्य खाद्यान्न पदार्थों का वितरण किया जा रहा है. 

    हालांकि तहसील में पिछले कुछ दिनों पुर्व चिचोली /अंतरगाव ग्रापं क्षेत्र के विभिन्न लाभार्थी परिवारों को इस योजना के तहत विभिन्न पदार्थों का वितरण कर शुभारंभ किया गया था. जिसके अनुसार 8 अक्टूबर को तहसील के मडेघाट, चिचगाव, सोनी, इंदोरा, पुयार चप्राड, कन्हालगाव आदी ग्रापं क्षेत्र के कुल 246 लाभार्थियों को खाद्यान्न का वितरण किया गया. इस दौरान स्थानीय ग्रापं के सरपंच सहित अन्य पदाधिकारी, अधिकारी व लाभार्थी परिवारों के विभिन्न महिला पुरुष नागरिक उपस्थित थे.