नाना के गृह जिले में फेल हुआ भारत बंद, फोटोसेशन में ही हुआ भारत बंद

    भंडारा. किसान आंदोलन के समर्थन में एवं जनहितविरोधी केंद्र सरकार की नीति के खिलाफत करते हुए सोमवार को भारत बंद का ऐलान किया गया था. भारत बंद का आह्वान इसके पूर्व भी किया गया था. लेकिन सोमवार के भारत बंद की ओर सभी की निगाहें इसलिए थी, क्योंकि भारत बंद को सफल बनाने का आह्वान कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष नाना पटोले ने किया था.

    अंदाजा लगाया गया था कि भारत बंद के बहाने कांग्रेस अपना शक्तिप्रदर्शन करेगी एवं जिले का जनजीवन प्रभावित होगा. बंद समर्थक संगठनों ने शिक्षा, वित्तीय एवं व्यापारिक संस्थाओं को बंद में शामिल होने का आह्वान किया था. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. फोटोसेशन भर के लिए टायर जलाने, सडक जाम करने की औपचारिकता पूरी की गयी. फोटोसेशन में भारत बंद होने की प्रतिक्रिया थी.

    राष्ट्रीय महामार्ग 5 मिनट प्रभावित

    भंडारा शहर से गुजरते 2 लेन राष्ट्रीय महामार्ग में 2 मिनीट का भी ट्राफिक जाम लेते ही आधा किलोमीटर तक वाहनों की कतार लग जाती है. सुबह 11.30 बजे के दौरान शहर कांग्रेस इकाई के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं ने सडक जाम करने की कोशिश की. लेकिन केवल मिनटभर में नागपुर साकोली हायवे, बस स्टैंड से जिलाधिकारी कार्यालय की ओर आनेवाले ट्राफिक जहां था, वहीं थम किया. कुछ मिनटों की इस परिस्थिति में ट्राफिक बुरी तरह प्रभावित हुआ. जिसे सामान्य करने के लिए पुलिसकर्मियों को आधे घंटे तक मशक्कत करनी पडी.

    सामान्य रहा बाजार कारोबार

    जैसे की उम्मीद थी कि भारत बंद के समर्थन में कांग्रेस के उरतने बाजार प्रभावित होगा. लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ. सभी व्यापारिक गतिविधियों हमेशा की तरह सामान्य रूप से जारी रही.

    निवेदन दिए, टायर जलाया

    भारत बंद के दौरान कांग्रेस, राकां एवं वामदलों ने केंद्र की नीति के विरोध में अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हुए स्थानीय अधिकारियों को मांगों का ज्ञापन सौँपा. तहसीलदारों को ज्ञापन सौंपने का कार्य, लगभग सभी तहसीलों में कांग्रेस एवं राकां संगठन द्वारा किया गया.

    जारी थी बसें

    भंडारा जिले का प्रमुख बस स्थानक में किसी भी बस को रद्द नहीं किया गया था. पूरे दिन सामान्य रूप से बस सेवा शुरू थी. बस स्थानक में यात्रियों की भीड ही हमेशा की तरह ही थी.

    पुलिस बंदोबस्त

    कांग्रेस, राकां एवं वामदलों ने भारत बंद को सफल बनाने के लिए कोई विशेष जोर नहीं लगाया. लेकिन पुलिस ने एहतियात बरती एवं पुख्ता बंदोबस्त रखा था.