बुआई की गई फसलों की जानकारी ऑनलाइन के किसान

    • एक मोबाइल से 20 किसान भर सकते हैं ऑनलाइन जानकारी

    पालांदूर. अपने खेतों में बुआई की गई फसलों की जानकारी अब किसानों को खुद अपने हाथों अपने ही खेत में खड़े रह कर ‘ईपिकपाहनी’ ऐप द्वारा देनी होगी. यह प्रयोग पहली बार किया जा रहा है जिससे राजस्व और कृषि विभाग को खेतों में बुआई की गयी फसलों की सही जानकारी प्राप्त होगी. 

    अब यह काम पटवारियों के जिम्मे नहीं रहा. इसके लिए किसानों को अपने मोबाइल में ‘ईपीकपाहनी’ एप डाउनलोड करना होगा और अपने खाते संबंधी मांगी गई जानकारी ऑनलाइन देनी होगी. साथ ही इस ऐप द्वारा बुआई गई फसल का फोटो भी ऑनलाइन जोड़ना होगा. 

    यदि कोई किसान यह जानकारी गलत तरीके से किसी दूसरे के खेत में खड़े रहकर देता है तो फसल ऐप इसे मंजूर तो करेगा, लेकिन प्राकृतिक आपदा या अन्य कोई तरह से फसल की नुकसान हो जाती है तो उस वक्त किसान द्वारा भरी हुई जानकारी ऑनलाइन की जांच की जाएगी और जिस जगह का फोटो लिया है उस जगह पर नुकसान हुआ या नहीं हुआ वह देखा जाएगा. 

    जिससे यह पता लगाया जाएगा कि कौन से किसान ने गलत जानकारी दी है. गलत जानकारी देने वाले किसान को सरकार द्वारा दिया जाने वाला मुआवजा नहीं दिया जाएगा. 

    ऑनलाइन जानकारी देते वक्त जो फसल खेतों में लगाई गई है उसकी जानकारी किसानों द्वारा भरी जाएगी, फसल तैयार होने के बाद बेचते वक्त 7/12 पर वह दिखाई जाएगी जिस कारण किसानों को बेचने में कोई दिक्कत निर्माण नहीं होगी.

    किसान 20 किसान खातेदारों की जानकारी अपने मोबाइल से ऑनलाइन कर सकते हैं. ईपीक देखरेख एप से बुआई गयी फसलों की सही जानकारी राजस्व और कृषि विभाग को प्राप्त होगी. कोई भी किसान गलत जानकारी ना दे वरना सरकार द्वारा मिलने वाली मदद से वंचित रहना पड़ेगा.