पोस्ट आफिस चौक को लेकर प्रशासन की अनदेखी, अतिक्रमण की वजह से ट्राफिक जाम की स्थिति

    भंडारा. बस स्टैंड रोड, मेन रोड, मुस्लिम लायब्रेरी रोड एवं बडा बाजार के लिए पोस्ट आफिस चौक से गुजरना आवश्यक है. लेकिन अतिक्रमण की वजह से यहां हर समय ट्राफिक जाम की स्थिति बनी रहती है. इस चौराहे का चौडीकरण एवं सुविधाजनक बनाए जाने को लेकर नगर परिषद में दूरदर्शिता का अभाव साफ झलकता है.

    तुमसर की ओर से आनेवाली कार एवं अन्य बडे वाहन भी इस रोड से होकर बसस्टैंड की ओर आते है. लेकिन परिसर इस चौराहे में ज्यादातर समय ट्राफिक जाम की नौबत आती है. ट्राफिक जाम की वजह से सडक का संकरा होना नहीं है, बल्कि व्याप्त अतिक्रमण है. जहां से मुस्लिम लायब्रेरी के लिए मुडना पडता है. वहीं पर सडक तक अतिक्रमण फैला हुआ है. इस अतिक्रमण को हटाने के लिए नगर परिषद भंडारा एवं लोकनिर्माण विभाग को संयुक्त मुहिम चलाने की आवश्यक्ता है. लेकिन दोनों विभाग इस ओर नजरअंदाज कर रहे है.

    अतिक्रमणकारियों की दबंगाई

    लोगों को वाहन निकालने में परेशानी हो रही है. यह बात प्रशासन अच्छी तरह से जानता है. इसके बावजूद अतिक्रमणकारियों को लेकर नगर परिषद नर्म रवैया अपनाती है. अवैध अतिक्रमण ने सिंडीकेट एवं केनरा बैंक को पूरी तरह से ढक दिया है. बैंक के ग्राहकों को गाडी खडी रखने की जगह नहीं बची है. लेकिन सडक पर अतिक्रमण कर आटो डील का आफिस बनाया गया है. जिसमें बाईक खरीदी बिक्री का कारोबार किया जाता है.

    इलेक्ट्रीक पोल हटाए

    दरअसल इस चौराहे में एक इलेक्ट्रीक पोल यह सडक सीमा के बाहर नहीं है. बल्कि घुमाव के बीचों बीच ही आता है. इलेक्ट्रीक पोल की सडक का समुचित इस्तेमाल नहीं हो पा रहा है. अगर इस इलेक्ट्रीक पोल का हटाया जाए तो अतिक्रमण से निजात मिल सकती है.

    नगराध्यक्ष में दूरदर्शिता का अभाव

    नगराध्यक्ष सुनील मेँढे यह भंडारा एवं गोंदिया के सांसद भी है. पेशे से इंजीनीअर भी है. उन्होने शहर को विकसित एवं सुंदर बनाने का वादा किया था. लेकिन दुर्भाग्य है कि सबसे ज्यादा अतिक्रमण उन्ही के कार्यकाल में हुआ है. आरंभ में योजना बनी थी कि ट्राफिक जाम के लिए जड साबित होनेवाले इलेक्ट्रीक पोल को हटाया जाएगा.

    सिंडीकेट बैंक के सामने से अतिक्रमण हटाया जाएगा. लेकिन वोटबैंक के चक्कर में निर्णय लेने का साहस नगराध्यक्ष सुनील मेंढे नहीं दिखा पा रहे है. नगर परिषद की इसी अकर्मण्यता की वजह से कोई कार्रवाई नहीं हो रही है. लोगों को ट्राफिक जाम परेशानी का सामना करना पड रहा है.