पूर्व पालक मंत्री तथा विधायक परिणय फुके द्वारा सौंपा गया पुरातत्व विभाग को पत्र, मनरो स्कूल का मामला

    भंडारा. पुर्व पालक मंत्री चंद्रशेखर बवनकुले एवं विधायक परिणय फुके सोमवार को पुरातत्व विभाग नागपुर सहायक संचालक से भेंट की. इसमें उन्होंने भंडारा शहर के तत्कालीन मनरो स्कूल, पांडे महल समेत सभी पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण इमारतों का संरक्षण करने का आग्रह किया. चंद्रशेखर बवनकुले ने बताया कि अगर समय रहते कदम नहीं उठाए गए तो इन इमारतों को नष्ट किया जा सकता है. सहायक संचालक प्रशासनिक विभाग द्वारा भंडारा जिलाधिकारी को तत्काल निर्देश जारी किया गया एवं कहा गया कि मनरो स्कूल एवं अन्य ऐतिहासिक इमारतों का संरक्षण किया जाए.

    पुरातात्विक विभाग नागपुर सहायक संचालक द्वारा जिला अधिकारी को एक पत्र जारी किया गया है. इस पत्र में कहा गया है कि भंडारा स्थित लाल बहादुर शास्त्री स्कूल के संरक्षण के संबंध में संदर्भ पूर्व मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने पुरातात्विक दृष्टि से महत्वपूर्ण इमारतों के संरक्षण में एक पत्र दिया. जिसमें कहा गया है कि भंडारा में मनरो स्कूल यानी लाल बहादुर शास्त्री की स्थापना वर्ष 1912 में हुई थी और इसकी 115 साल की शैक्षिक, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक विरासत है. डायमंड फेस्टिवल – 1984 में मनाया गया. 

    ब्रिटिश काल की यह इमारत 1912 में इस स्कूल को ब्रिटिश सरकार ने अपने अधिकार में ले लिया था. उस समय शिक्षा निदेशक यह अलेक्जेंडर मुनरो था. उनके नाम पर स्कूल का नाम गवर्नमेंट मोनरो हाई स्कूल रखा गया. स्कूल ने बड़ी संख्या में देशभक्तों को जन्म दिया जिन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में  भाग लिया और ब्रिटिश शासन के खिलाफ जमकर लड़ाई लड़ी. स्कूल में उन छात्रों की उज्ज्वल परंपरा है, जिन्होंने देश और विदेश में विभिन्न क्षेत्रों में अपना नाम बनाया है. 

    शिक्षा के क्षेत्र में स्कूल के विद्यार्थियों ने भी शानदार सफलता हासिल की है. इतना गौरवशाली इतिहास रखने वाले मनरो स्कूल की डायमंड जुबली जनवरी 1984 में आयोजित की गई थी. साथ ही अध्याय 15 शिक्षा और संस्कृति भंडारा जिला दर्शनिका भी इस स्कूल के बारे में जानकारी देता है. श्री गजानन विजय ग्रंथ में भी इस विद्यालय के बारे में उल्लेख है.

    स्कूल प्रांगण में मनरो स्कूल यानि लाल बहादुर शास्त्री स्कूल भंडारा का व्यवसायिक निर्माण चल रहा है, जिससे मनरो स्कूल हेरिटेज के लिए खतरा पैदा हो गया है. इस तरह के संदर्भों की सूचना पुरातत्व विभाग को दी गई है. मनरो स्कूल यानि लाल बहादुर शास्त्री स्कूल, भंडारा ने 117 साल पूरे कर लिए है. और स्कूल की इमारत को 117 साल पूरे हो गए हैं. 10-09-1982 के अनुसार, राज्य में संबंधित सरकारी और अर्ध-सरकारी विभाग महाराष्ट्र राज्य ने प्राचीन स्मारकों के संरक्षण सुनिश्चित करने के लिए उचित ध्यान नहीं रखते हैं. 

    इसके अनुसार किसी भी पुरातत्व स्मारक जैसे केंद्रीय राज्य या असुरक्षित को नुकसान न पहुंचे इसका ध्यान रखा जाना चाहिए.

    पूर्व पालक मंत्री चंद्रशेखर बवनकुले विधायक परिणय फुके एवं मनरो स्कूल बचाओ आंदोलन के पदाधिकारी विकास मदनकर, रामू शहारे, स्वप्निल भोंगाडे एवं हेमंत साकुरे अन्य ने पुरातत्व विभाग के अधिकारियों से भेंट की एवं स्कूल प्रांगण में हो रहे निर्माण के बारे में जानकारी दी. पूर्व पालक मंत्री बावनकुले ने पुरातत्व विभाग को चेतावनी दी की काम को तत्काल रोका नहीं गया तो जन आंदोलन किया जाएगा.