train
File Photo

    • पूर्व न.प. उपाध्यक्ष घरडे ने की मांग

    तुमसर. तिरोड़ी- तुमसर रोड पैसेंजर ट्रेन पूर्व के समय नुसार दिन में 4 बार शुरु कर म.प्र. एवं तहसील के ग्रामीण परिसर के लोगों को राहत दिलाने की मांग पूर्व न.प. उपाध्यक्ष प्रमोद घरडे द्वारा की गई है.

    उन्होंने बताया कि, रेलवे प्रशासन द्वारा गत 18 माह से बंद ट्रेन को शुरु तो करवाया है. लेकिन इसका समय सुबह 4.15 बजे जाने एवं 7.15 बजे आने का होने से यह ट्रेन किसी भी व्यक्ति के काम की नहीं होकर बेवजह रेलवे प्रशासन का नुकसान हो रहा है. 

    इसके पूर्व तिरोड़ी- तुमसर रोड के बीच चलने वाली पैसेंजर ट्रेन क्षेत्र के साथ ही मध्यप्रदेश के लोगों के लिए हितकारी साबित होती थी. इसमे कतई संदेह नहीं है. 

    इसके पूर्व तिरोड़ी से तुमसर रोड़ तक दिन में 4 बार ट्रेन का आवागमन होता था. इसके साथ ही सुबह के समय यह ट्रेन इतवारी नागपुर तक जाती थी. इस ट्रेन से दूध, दही एवं सब्जी भाजी बेचने के लिए अनेक किसानों की महिलाएं शहर में आती थी. इसके माध्यम से ही अपने परिवार का पालन पोषण करती थी. 

    लेकिन ट्रेन का यातायात बंद होने से उनका धंदा भी पूरी तरह ठप्प हो गया है. इससे उनकी आर्थिक स्थिति गम्भीर हो चुकी है. साथ ही इस ट्रेन से अनेक नोकरिपेशा लोग भी आवागमन करते थे. उन्हें भी काफ़ी परेशानीयो के दौर से गुजरना पड़ रहा है. 

    इसके अलावा रेल मार्ग पर स्थित तहसील एवं म.प्र. के अनेक लोग इलाज के लिए शहर आते थे. वे भी काफी परेशान नजर आते हैं. 

    इस कारण महाराष्ट्र एवं मध्यप्रदेश को जोड़ने वाली तुमसर रोड़- तिरोड़ी ट्रेन को पूर्व की तरह शुरु करवाकर किसान, विद्यार्थी, नोकरिपेशा, मरीज एवं सर्वसामान्य नागरिकों को राहत दिलाने की मांग की गई है.

    तुमसर रोड से जबलपुर- मंडला के लिए रेलगाड़ी चलाए

    प्रमोद घरड़े ने बताया कि, वर्षो से प्रलंबित तिरोडी से कटंगी नई रेल लाइन का कार्य पूर्ण हो चुका है. साथ ही  तुमसर रोड से बालाघाट तक एवं गोंदिया से जबलपुर तक भी विद्युत का कार्य पूर्ण हो चुका है. इस कारण क्षेत्र के यात्रियों की समस्या को ध्यान में रखते हुए रेल प्रशासन द्वारा तुमसर रोड से जबलपुर- मंडला के लिए रेलगाड़ी शुरु कर यात्रियों को राहत दिलाई जाए. 

    सबंधित ट्रेन दिन में 2 बार व्हाया तुमसर टाऊन, तिरोडी, कटंगी, वारासिवनी, बालाघाट होते हुए जबलपुर एवं मंडला तक रेलगाड़ी चलाई जाए. इससे क्षेत्र के व्यवसाय में बढोत्तरी होकर लोगों को आवागमन करने में सुविधा होगी. साथ ही पैसों के साथ समय की भी बचत होंगी.