आयुध निर्माणी परिसर में तेंदुए की दहशत,  बकरी को बनाया शिकार

    जवाहरनगर. अच्छे मौसम का लुत्फ उठाने अगर आप प्राकृतिक सौन्दर्य से परिपूर्ण आयुध निर्माणी भंडारा परिसर में सैर करने निकले हैं तो होशियार. पिछले कुछ दिनों से एक तेंदुए ने आयुध निर्माणी कॉलोनी की वादियों को अपना घर बना लिया है. हाल ही में एक बकरी को इस तेंदुए ने अपना शिकार बनाया.

    यह तेंदुआ समय-समय पर अपना व्यवहार बदल रहा है और कॉलोनी में घूमता नजर आ रहा है. हाल ही में रात्रि गश्त के दौरान चौकीदार ने इस तेंदुए को कॉलोनी में चौकी नंबर 2 के पास के इलाके में घूमते देखा. तेंदुआ देखते ही भयभीत गार्ड ने यह जानकारी अपने साथियों को दी. जब तक साथी वहाँ पहुंचते, तेंदुआ क्षेत्र छोड़कर जा चुका था.

    आयुध निर्माणी क्षेत्र में पिछले कुछ दिनों से अलग अलग जगह तेंदुआ दिखने की घटनाएं रिपोर्ट की जा रही हैं. सुबह या शाम को आसपास के गावों के घूमने वाले नागरिक अब नांदोरा झिरी मार्ग से जवाहरनगर प्रोपेक्स झील और भीमगिरी पहाड़ियों तक पैदल आने लगे हैं. पिछले वर्ष प्रोपेक्स झील के पास कुछ दिनों तक तेंदुआ देखे जाने के बाद शाम ढलने के बाद इलाके में प्रवेश वर्जीत कर दिया गया था.

    कालोनी परिसर में तेंदुआ देखे जाने के बाद आयुध निर्माण कंपनी के मजदूरों में दहशत का माहौल है. सावरी निवासी देवा मांढरे अपनी बकरियों को चौकी नंबर 2 और 3 के बीच झूडपी जंगल में चराने के लिए ले जा रहे थे तब तेंदुए ने बकरियों के झूँड पर हमला कर एक बकरी ले भागा था. तबसे चरवाहों ने अपने पशुओं को यहां ले जाना बंद कर दिया है.

    तेंदुए को कैद करें – नागेश भगत

    यह तेंदुआ मानव बस्तियों में भी घूम रहा है. ऐसे में तेंदुए के हमले में किसी मासूम व्यक्ति के मारे जाने की आशंका है. यदि उसे पालतू जानवर या अन्य जंगली जानवर शिकार करने के लिए नहीं मिलते हैं तो एक भूखा तेंदुआ निश्चित रूप से मनुष्यों पर हमला कर सकता है. कवडशी के पंचायत समिति सदस्य नागेश भगत ने मांग की है की इस तेंदुए को कैद कर उसके जंगल अधिवास में छोड़ा जाए.