सहारा बैंक के सेक्टर प्रबंधक का घेराव कर लेकर गए पुलिस थाने, ग्राहकों के रुपये देने में टालमटोल करने पर कराई शिकायत दर्ज

    तुमसर. सहारा इंडिया बँक की स्थानीय शाखा में क्षेत्र के अनेक लोगों द्वारा लाखो रुपये जमा किये गए थे. लेकिन म्याचुरेटी अवधि समाप्त होने के बाद भी बैंक प्रशासन द्वारा ग्राहको को पैसे देने में टालमटोल किये जाने से संतप्त ग्राहकों ने शनिवार को शिवसेना पदाधिकारियों के नेतृत्व में सेक्टर प्रबंधक पराशर पांडे का बैंक में घेराव कर खरीखोटी सुनाई एवं प्रबंधक को पुलिस थाने ले जाकर शिकायत दर्ज कराई गई है. 

    इस पर थानेदार नितिन चिंचखेड़े ने प्रबंधक को सभी कागजाद लेकर मंगलवार को थाने में पंहुचने के आदेश दिए साथ ही ग्राहकों के साथ उचित व्यवहार करने की सलाह दी साथ ही ग्राहकों को राशि देने के संदर्भ में वरिष्ठों से चर्चा करने के लिए कहा गया था. शिवसेना पदाधिकारियों के साथ शेकडो ग्राहक एवं अभिकर्ता भी पुलिस थाने में पँहुचे थे.

    बताया जाता है कि, शहर एवं ग्रामीण परिसर के लोगों द्वारा मेहनत मजदूरी कर अपना पेट काटकर सहारा इंडिया बैंक में अपने भविष्य के काम को लेकर रुपये जमा किये गए थे. सबंधित ग्राहको की म्याचुरेटी होने के बाद भी बैंक द्वारा ग्राहकों को रुपये देने में टालमटोल की जा रही है एवं रि- इन्व्हेस्टमेंट करने की सलाह देकर टाइमपास किया जा रहा है.

    बँक द्वारा ग्राहको के साथ की जा रही धोखाधड़ी के संदर्भ में शिवसेना पदाधिकारी को दास्तान सुनाने पर शिवसेना द्वारा सहारा इंडिया के जिला व्यवस्थापक, क्षेत्रीय एवं प्रादेशिक व्यवस्थापक को निवेदन भेज ग्राहकों को तत्काल उनके पैसे लौटाने की मांग की गई थी.

    लेकिन 8 माह बीत जाने के बावजूद बैंक प्रशासन द्वारा किसी तरह का जवाब नहीं दिया गया था. इससे खातेदारों के साथ धोखाधड़ी किये जाने का स्पष्ट होता है.

    इस संदर्भ में शिवसेना द्वारा सहारा इंडिया के सेक्टर प्रबंधक को भेजे गए निवेदन में कहा गया कि, यदि 10 दिन के भीतर खातेदारों को परिपक्वता राशि नहीं दी गई तो सहारा इंडिया वरिष्ठ कार्यालय के अधिकारियो के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया जाएगा एवं शिवसेना के माध्यम से पीडित खातेदारो के हित को ध्यान में रखकर स्थानीय कार्यालय के सामने आंदोलन किया जाएगा.

    ऐसी चेतावनी देने पर शनिवार को सेक्टर प्रबंधक स्थानीय शाखा में पँहुचे थे. तब पहले से ही इकठ्ठा हुए ग्राहकों ने प्रबंधक की जमकर खिंचाई की गई थी. इस बीच अभिकर्ताओ ने भी काफी खरीखोटी सुनाई थी. 

    इस बीच सेक्टर प्रबंधक ने बताया कि, सुप्रीम कोर्ट द्वारा पाबंदी लगाए जाने से वे ग्राहकों के पैसे नहीं दे पा रहे हैं. कोर्ट के निर्णय के बाद ही पैसे लौटाने की कार्रवाही की जाएंगी.

    इस समय शिवसेना के विभाग प्रमुख अमित मेश्राम, उपजिला संघटक जगदीश त्रिभुवनकर, संतोष पाठक, दिनेशचन्द्र पांडे, संजय ठाकुर, बंटी बानेवार, राहुल डोंगरे, एड. राजेन्द्र भुरे के साथ ही शेकडो पीडित खातेदार उपस्थित थे.