The threat of encroachment increased near BTB market, the roads narrowed due to the shops on the roads

Loading

  • नशेड़ियों से भारी परेशानी

भंडारा. शहर के BTB मंडी परिसर में कई छोटे व्यापारियों ने सड़क पर कब्जा कर लिया है. सड़क पर टेंट खींच कर सामग्री रख कर सब्जियां, चाय पान और बाकी सामान बेचा जा रहा है. ऐसे में वहाँ चालकों को भारी परेशानी का सामना पड़ता है. BTB मंडी से गुजरने वाले रिंग रोड और टी पॉइंट से हॉस्पिटल चौक तक अराजकता का साम्राज्य है. 

रिंग रोड बना घातक 

सड़क पर दुकाने सजने से ग्राहक उन दुकानों के सामने अपनी गाड़ियां खड़ी करते हैं नतीजतन सड़कें संकरी हो गई हैं. सड़क पर चलने वाले वाहन चालकों को कड़ी मशक्कत करनी पड़ती है. BTB थोक सब्जी की मंडी होने की वजह से यहाँ आने वाली मालवाहक गाड़ियां और ऑटो भी यहीं सड़क पर पार्क रहते हैं. जिस वजह से BTB के सामने वाले रिंग रोड होकर गुजरने वाले ट्रकों और ट्रेलरों का यहाँ जाम लगा रहता है. मंडी आने वाले ग्राहक भी अपनी दुपहिया मंडी के सामने सड़क पर पार्क करते हैं. नतीजतन, रिंग रोड य छोटी पुलिया से कारधा पर जाने के लिए जान हथेली पर रख जाना पड़ता है. रिंग रोड पर हुए निर्माण कार्य का मलबा और रेत इस मार्ग पर बरसों से पड़ी रहने की वजह से अक्सर दुपहिया गाड़ियां फिसलती हैं. इससे दुर्घटना होने का खतरा बना रहता है. बावजूद इसके इस ओर से जानबूझकर अनदेखी की जा रही है. जिससे किसी दिन BTB मंडी परिसर में बड़ी दुर्घटना हो सकती है.

एम्बुलेंस, बसों को परेशानी 

भंडारा शहर के रास्ते पहले ही संकरे हैं. हाल ही में मार्ग का डामरीकरण कर चौड़ा किया गया है. इसकी वजह से वाहनों की गति बढ़ गई है. तेज गति से वाहन चालक फर्राटे भरते हैं. नतीजा बुजुर्ग, बच्चे और महिलाओं को जान हथेली पर लेकर आवागमन करना पड़ता है. किसी वाहन चालक ने किसी दूकानदार को सड़क पर सामान रखने से मना किया, तो विक्रेता बहसबाजी पर उतारू हो जाते हैं. जिला अस्पताल और रापनी बस डिपो ईसी रोड पर होने की वजह से इन वाहनों को यहाँ से निकालने में अक्सर इंतज़ार करना पड़ता है. नतीजतन एम्बुलेंस में लाए जा रहे मरीज की जान का खतरा बढ़ जाता है. इस ओर प्रशासन को ध्यान देकर तुरंत अतिक्रमण हटाना चाहिए.

नशेड़ियों से भारी परेशानी

BTB मंडी से लेकर हॉस्पिटल चौक तक शाम को अंधेरा छाया होता है. इस क्षेत्र में बस डिपो के पीछे शराब की अवैध दुकाने हैं साथ ही नजदीक ही राजमार्ग पर 2 बार भी हैं. शाम को यहां बंद पड़ी टपरियों पर शराबियों का जमघट लगता है. सड़क पर अंधाधुंध वाहन खड़े किए जा रहे हैं.

शराबी खाली टपरियों के काउन्टर पर शराब की बोतल और ग्लास सजा कर भीड़ इकट्ठा कर सड़कों पर मंडराते रहते हैं. हालांकि इन सब से आम नागरिकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है लेकिन कोई नागरिक इन नशेड़ियों से उलझना नहीं चाहता. पिछले साल यहाँ मर्डर और जानलेवा हमलों में कई लोग घायल हो चुके हैं. इस ओर संबंधित विभाग को ध्यान देने की आवश्यकता है. क्योंकि पर्ची काटने वाले तो प्रतिदिन अपनी पर्ची काटकर चले जाते हैं और पुलिस वाले महीने में महज चेतावनी देकर चलते बनते हैं. परेशानी आम नागरिकों उठानी पड़ती है.