Wildlife hunters arrested by forest department due to electric shock

    • अड्याल वन क्षेत्र में चालना बिट में घटना
    • दो आरोपी हिरासत में, एक फरार

    अड्याल चिचाल. बिजली के झटके देकर जंगली जानवरों का शिकार करने वाले दो आरोपियों को अड्याल वन अधिकारियों ने हिरासत में ले लिया. इसमें खुर्शिपार निवासी संदीप पुरुषोत्तम फुलसुंगे (29) व डुलीचंद सरदार किंन्नाके (32) हिरासत में ले लिया. जबकि एक आरोपी भाऊराव रामचंद्र फुलसुंगे 22 जनवरी की शाम सवा पांच बजे फरार हो गया.

    प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार की सुबह पवनी तहसील के अड्याल वन परिक्षेत्र अंतर्गत चालना बीट नंबर 291 बीट में रिजर्व फॉरेस्ट में वन मजूर व वनकर्मी पेट्रोलिंग के लिए गए थे. इसी बीच बांस की खूंटी गाडकर अवैध रूप से लोहे का जीआई तार 431 मीटर तक लगा हुआ था. घटना वाले दिन क्षेत्र सहायक माडगी (पूर्व) विनोद पंचभाई,बीट रक्षक विजय राउत, वनरक्षक विपीन डोंगरे, प्रमोद मस्के, आकाश कवाले व रोपवन मजूर सामूहिक गश्त कर रहे थे. तभी तार लटकता हुआ दिखा. शाम को व्यक्ति के आने को देखते हुए वन कर्मी जमे हुए थे.

    शाम 5.15 बजे तीन व्यक्तियों द्वारा फंसे हुए तार को बिजली के तार से जोडने का प्रयास कर रहे थे. तभी वनकर्मी दौडकर पकडने वाले थे तभी मौके से फरार हो गए. तभी संदीप पुरुषोत्तम फुलसुंगे पिछा कर उसे पकउ लिया. बचे लोग भाऊराव रामचन्द्र फुलसुंगे, डुलीचंद सरदार किन्नाके फरार हो गए.

    फरार हुए में से एक डुलीचंद किन्नाके को दूसरे दिन वन अधिकारी के सामने पेश हुआ. जबकि भाऊराव रामचंद्र फुलसुंगे फरार है और वन विभाग के अधिकारी फरार आरोपियों की तलाश कर रहे हैं. उप वन संरक्षक राहुल गवई भंडारा एवं सहायक वन संरक्षक (वन्यजीव एवं वन्य जीव) यशवंत नागुलवार के मार्गदर्शन में वन प्रमंडल अधिकारी अड्याल घनश्याम ढोंबरे व मिथून तरोने परिवीक्षाधीन एवं वन कर्मचारी जांच कर रहे है.