Supriya Sule

Loading

पुणे. लोकसभा सदस्य सुप्रिया सुले (Supriya Sule) ने रविवार को दावा किया कि बारामती निर्वाचन क्षेत्र (Baramati Lok Sabha Seat) में उनके और उनकी भाभी सुनेत्रा पवार (Sunetra Pawar) के बीच लड़ाई राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के संस्थापक शरद पवार (Sharad Pawar) को राजनीतिक रूप से समाप्त करने की भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की साजिश है।

सुले ने कहा कि लोकसभा चुनाव में अंत:-पारिवारिक द्वंद्व सुनेत्रा पवार के प्रति उनके सम्मान को कम नहीं करेगा, क्योंकि वह (सुनेत्रा) उनके “बड़े भाई की पत्नी और मां की तरह” हैं। तीन बार की सांसद सुले के खिलाफ महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार की पत्नी सुनेत्रा पवार के चुनावी अखाड़े में उतरने के बाद शरद पवार का गृह क्षेत्र बारामती एक हाई-प्रोफाइल चुनावी संघर्ष के लिए तैयार है।

‘पवार-बनाम-पवार’ का संघर्ष पिछले साल मूल राकांपा में हुए विभाजन का नतीजा है। अजित पवार पिछले वर्ष अपने वफादार विधायकों के साथ सत्तारूढ़ भाजपा और एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना के साथ चले गए थे।

सुले ने ‘पीटीआई-भाषा’ से बातचीत में कहा कि सुनेत्रा पवार उनके बड़े भाई की पत्नी हैं और बड़ी भाभी को मां के समान माना जाता है। उन्होंने कहा, “इसलिए यह चाल (सुनेत्रा को सुले के खिलाफ उतारने की) पवार परिवार और महाराष्ट्र के खिलाफ है। भाजपा पवार साहब को (राजनीतिक तौर पर) समाप्त करना चाहती है। यह मैं नहीं कह रही, (बल्कि) भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बारामती का दौरा करने के बाद ऐसी टिप्पणी की थी।” सुले (54) ने दावा किया कि सुनेत्रा पवार (60) को नामांकित करने का कदम दर्शाता है कि ऐसा विकास के लिए नहीं किया गया है। उन्होंने कहा, “यह केवल पवार साहब को खत्म करने की लड़ाई है।”

बारामती में तीसरे चरण में सात मई को मतदान होना है। उन्होंने महाराष्ट्र में ‘गंदी राजनीति’ और उनके पारिवारिक मामलों में भाजपा की संलिप्तता पर दुख व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “जो बीत गया उसे बीत जाने दो, लेकिन मेरे लिए मेरी भाभी, जिन्हें हम मराठी में ‘वाहिनी’ कहते हैं, मां के समान रहेंगी और उनके प्रति मेरा सम्मान पहले जैसा ही रहेगा।”

महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीट पर 19 अप्रैल से 20 मई के बीच पांच चरणों में मतदान होगा और मतों की गिनती 4 जून को होगी। (एजेंसी)