बारिश के कारण तहसील के 1 हजार 395 हे. क्षेत्र में फसलों का नुकसान

    • कपास, सोयाबीन, उड़द फसलों का 
    • सब से अधिक हुआ नुकसान

    खामगांव. विगत सप्ताह में सात से आठ सितम्बर को हुई जोरदार बारिश के कारण तहसील के 1 हजार 395 हेक्टर क्षेत्र में खरीप मौसम की कपास, सोयाबीन, उड़द एवं मका इन फसलो का नुकसान हुआ है. तहसील में नुकसानग्रस्त किसानों की संख्या 2 हजार 150 हैं. आज तक तहसील में 622 मि.मी. बारिश दर्ज की गयी हैं. नुकसान की भरपाई मिले, ऐसी मांग नुकसानग्रस्त किसानों ने की हैं. इस साल कम – ज्यादा बारिश होने से फसलों स्थिति भी कम ज्यादा प्रमाण में हैं.

    इस बारिश से सब से अधिक नुकसान उड़द और मूंग की फसलों को हुआ हैं. तहसील में इस साल सोयाबीन की सब से अधिक बुआई हुई हैं. अगस्त माह में बारिश अच्छी होने से फसल अच्छी थी, लेकिन सितम्बर माह में 7 तथा 8 को हुए जोरदार बारिश के कारण तहसील के भालेगांव, सावरगांव, ढोरपगांव, कुंबेफल, निपाणा, हिवरा खुर्द, पिंपलगांव राजा इन क्षेत्रों के 2 हजार 150 किसानों की कपास, सोयाबीन, उड़द एवं मके की फसल का नुकसान हुआ है.

    इसी तरह अत्यधिक वर्षा के कारण 1 हजार 395 हेक्टर क्षेत्र बाधित हुआ हैं. कृषि सहायक, पटवारी एवं ग्रामसेवक के संयुक्त दस्ते ने नुकसान ग्रस्त खेतों का सर्वे किया है. खरीप मौसम में फसलों का नुकसान होने से किसान संकट में घिर गया हैं, इस लिए नुकसान ग्रस्त खेतों का तुरंत सर्वे कर सरकार ने नुकसान भरपाई देने की मांग नुकसानग्रस्त किसान कर रहे हैं.

    नुकसान का सर्वे कर मदद प्रदान की जाए 

    दि. 7 और 8 सितंबर को हुई जोरदार बारिश से काफी नुकसान हुआ हैं. जिस कारण उत्पादन खर्च भी निकलना मुश्किल दिखाई दे रहा हैं, इसलिए तुरंत नुकसान भरपाई दें. -श्रीराम इंगले, किसा‌न, ग्राम टाकली

    बीमा कंपनी से शिकायत करें

    खरीप मौसम की कुछ फसलों का बारिश के कारण नुकसान हुआ है, जिन जिन किसानों ने फसल बीमा निकाला है ऐसे किसान संबंधित फसल बीमा कंपनी की ओर शिकायत करें, कुछ दिक्कत आने पर कृषि विभाग से संपर्क करें.-गणेश गिरी, तहसील कृषि अधिकारी