PROTEST

    खामगांव. सोयाबीन को 8,000 रू. तथा कपास को 12,000 रू. स्थिर दाम मिलने के लिए किसान नेता रविकांत तुपकर ने 17 नवम्बर से नागपुर में अन्नत्याग सत्याग्रह शुरू किया. लेकिन सरकार तानाशाही मार्ग से सत्याग्रह तोड़ने के लिए प्रयास कर रही है. जिससे छात्र संगठन ने रविकांत तुपकर की गिरफ्तारी के निषेध में रास्तारोको आंदोलन किया. 

    इस अवसर पर किसान नेता तुपकर को बुलढाना में लाकर स्थानीय पुलिस की हिरासत में दिया. लेकिन बुलढाना में भी तुपकर का अन्नत्याग सत्याग्रह शुरू हैं. लोकशाही व शांति मार्ग से चल रहे सत्याग्रह को तोड़ने वाले सरकार का जाहिर निषेध व रविकांत तुपकर के अन्नत्याग सत्याग्रह को जाहिर समर्थन देने छात्र संगठन के अध्यक्ष नीलेश देशमुख, तहसील अध्यक्ष अतिश पलसकर के नेतृत्व में ग्राम शहापुर में रास्ता रोको आंदोलन किया.

    इस अवसर पर पुलिस ने हस्तक्षेप कर आंदोलनकारियों को हिरासत में लिया. आंदोलन में विद्यार्थी जिला उपाध्यक्ष नीलेश गवली, गजानन करंडेल, रामकृष्ण चतारकार, अविनाश तिडके, अजाबराव सिरसाट, दिनेश तिडके, श्याम चोरे, सिद्धांत वानखेड, विश्वनाथ तिजाडे, बंडू अटाव, विजय मोरखडे, नितिन साबले, राम बदरगे, गुलाब मोरे, गजानन तिडके व बड़ी संख्या में किसान उपस्थित थे.