Crop Loan

    बुलढाना. जिले में चारों ओर बुआई लगभग खत्म होने को है. वहीं दूसरी ओर अभी भी जिले के 47 हजार किसानों को फसल कर्ज की प्रतीक्षा है. फसल कर्ज वितरण की रफ्तार धीमी होने से किसानों में नाराजगी देखी जा रही है. वहीं दूसरी ओर सरकार के बदलने से नियमित कर्ज अदा करने वाले किसानों को भारी झटका लगा है.

    जिले में करीब डेढ़ लाख किसान हैं. जुलाई मध्य तक 96,413 किसानों को बैंकों द्वारा 919 करोड़  95 हजार रु. का कर्ज वितरित किया जा चुका है. वहीं दूसरी ओर जिले में अभी भी 47 हजार 87 किसान ऐसे हैं, जो फसल कर्ज का इंतजार कर रहे हैं. बैंकों से कर्ज नहीं मिलने के कारण इन दिनों कई किसान साहूकारों के चौखट के चक्कर काट रहे हैं.

    खरीफ में जिले के किसानों को करीब 1400 करोड़ रुपये के फसल कर्ज बांटने का लक्ष्य रखा गया है. अब बुआई का अवधी खत्म होने को है, फिर भी धीमी रफ्तार से यह कर्ज वितरित किया जा रहा है. जिले में पिछले दो वर्षों से विभिन्न प्रकार की आपदाएं किसानों को प्रभावित कर रही हैं जिससे किसान त्रस्त है. अब बैंकों द्वारा समय पर कर्ज नहीं मिलने से किसान संकट में हैं.

    सरकार बदलते ही लगा किसानों को झटका

    महाविकास आघाडी सरकार की ओर से जो किसान नियमित रूप से फसल कर्ज अदा करते है, उन्हें प्रोत्साहन के रूप में 50 हजार रुपए प्रदान करने का निर्णय लिया गया था. यह राशि अब तक प्रदान भी की गई. लेकिन सरकार के बदलते ही नियमित रूप से कर्जा अदा करने वाले किसानों को इस राशि से वंचित होना पड़ रहा है, जिसके कारण किसानों को झटका लगा है.

    34 हजार किसान लाभ से वंचित

    महाविकास आघाडी सरकार की ओर से नियमित कर्ज वितरित करने वाले किसानों को प्रोत्साहन के रूप में 1 जुलाई को 50 हजार रु. प्रदान किए जाते थे. जिले में इस योजना का लाभ लगभग 34 हजार किसानों को मिलता था. जून माह के अंत में सत्‍ता परिवर्तन के बाद नई सरकार बनी है. जिसके कारण जिले के 34 हजार किसानों के खाते में यह राशि अब तक जमा नहीं होने से किसानों में परेशानी है.

    जिले में कुल किसान -1,43,500

    कर्ज प्राप्त किसान -96,413

    कर्जे की प्रतीक्षा में किसान -47,087