File Photo
File Photo

    खामगांव. शैक्षणिक सत्र 2022–23 के लिए समग्र शिक्षा अभियान अंतर्गत खामगांव तहसील के करीब 30 हजार छात्रों में नि:शुल्क किताब योजना का लाभ मिलने वाला हैं. इसके लिए शिक्षा विभाग की ओर से नियोजन किया गया है. यह किताबें तहसील के 209 स्कूलों में वितरित की जाएगी. शिक्षा विभाग ने इस संदर्भ में अपनी तैयारी शुरू कर दी है. इस उपक्रम का आयोजन तहसील के 15 केंद्रों पर होगा. इसका लाभ करीब 1 लाख 73 हजार छात्रों को नि:शुल्क मिलेगा. 

    बालकों की नि:शुल्क एवं अनिवार्य शिक्षा कानून के अंतर्गत कक्षा पहली से आठवी तक के विद्यार्थियों को समग्र शिक्षा अभियान अंतर्गत नि:शुल्क पाठ्य पुस्तकें दी जाती हैं. जिला परिषद, नगर पालिका, सरकारी अनुदानित स्कूल एवं आश्रम शालाओं का नि:शुल्क पाठ्य पुस्तक योजना में समावेश किया गया हैं. इस योजना के अंतर्गत पंचायत समिति में शैक्षणिक वर्ष 2022–23 के लिए मराठी माध्यम की 174 स्कूल, उर्दू माध्यम की 32 स्कूल तथा हिंदी माध्यम की तीन इस तरह 209 स्कूल शामिल हैं.

    छात्र संख्या यू डायस स्कोर के अनुसार निर्धारित की जाती है. उस नुसार कक्षा पहली से आठवी में मराठी माध्यम के 23,673 छात्र, उर्दू माध्यम के 5,910 छात्र तथा हिंदी माध्यम के 410 इस तरह तहसील के कुल 29,993 छात्र हैं. कक्षा एक से आठवी के खामगांव तहसील के इन छात्रों के लिए करीब 1 लाख 73 हजार 571 किताबें अमरावती के बालभारती भवन से तहसील स्तर पर प्राप्त होनेवाली है. जिसमें कक्षा पहली से पाचवी तक 82,393 किताबें तथा कक्षा छठवी से आठवी तक 91,178 किताबों का समावेश हैं.

    आज की स्थिति में खामगांव तहसील में 82,226 किताबे प्राप्त हुई हैं. जिसमें तहसील के अटाली, भालेगांव, बोथाकाजी, गणेशपुर, गोंधनापुर, हिवरखेड़, लाखनवाड़ा, नीपाणा, पलशी बु, पिंपलगांव राजा, रोहणा, सुटाला, टेंभुर्णा तथा शहर के पालिका क्र. एक एवं दो ऐसे 15 केंद्रों पर शालेय स्तर पर किताबों का वितरण किया जाएगा.

    स्कूल के पहले दिन छात्रों को मिलेंगी किताबें

    आनेवाले 27 जून को स्कूल शुरू होनेवाली हैं, लेकिन स्कूल खुलने के पहले किताबें स्कूल पर पहुंचाई जाएंगी, स्कूल के पहले दिन छात्रों के हाथ किताबे मिलेंगी. एक भी छात्र किताबों से वंचित नहीं रहेगा, ऐसी सतर्कता बरती जाएगी.-गजानन गायकवाड़,  गट शिक्षणाधिकारी