सांगली में भारी बारिश का तांडव (Photo Credits-ANI Twitter)
सांगली में भारी बारिश का तांडव (Photo Credits-ANI Twitter)

    खामगांव. विगत कुछ दिनों से गायब हुए बारिश का शहर में मंगलवार को जोरदार आगमन हुआ है. सुबह से शुरू हुई बारिश के कारण शहर से बहने वाली बोर्डी नदी में दस साल बाद बाढ़ आई है. बाढ़ का पानी फरसी परिसर के निवासी इलाकों में घूसने ने कारण नागरिकों में हडकम्प मच गया था. तीन से चार घन्टों तक चली इस जोरदार बारिश के कारण नागरिकों के चहरे पर खुशी नजर आई. बरसात शुरू हुई तब से तीन माह बीत गए लेकिन खामगांव एवं परिसर में अच्छी बारिश नहीं हुई थी.

    जिस कारण किसानों की दिक्कते बढ़ गई थी. पानी न होने से फसल खराब होती जा रही थी, जिस कारण किसान संकट में आ गए थे. जोरदार बारिश न होने कारण परिसर के बांधों का जल स्तर कम हुआ था. लेकिन मंगलवार की सुबह पांच बजे से शुरू हुई जोरदार बारिश लगतार तीन से चार घन्टों तक चलने से परिसर के नदी, नालों में बाढ़ आकर छोटे पुलों पर से पानी बहने लगा था. इस बारिश से किसानों तथा नागरिकों को राहत मिली है.

    बोर्डी नदी में तीन मवेशी बह गए 

    मंगलवार सुबह आई जोरदार बारिश के कारण शहर से बहने वाले नदी में बाढ़ आने से फरसी के समीप हमेशा खड़ी रहनेवाली तीन गाये बाढ़ के पानी में बह गयी. नागरिक उन्हें बचाने का प्रयास करते दिखाई दिए. काफी प्रयासों के बाद नागरिकों ने एक गाय को बचा लिया, लेकिन दो गाय बहकर चली गई.

    खामगांव में 104 मि.मी. बारिश

    खामगांव शहर एवं परिसर में हुए बारिश के कारण सभी ओर जल स्तर में बढ़ोतरी देखी गयी है. यह जानकारी वर्षा विभाग ने दी है. वर्षा विभाग ने मंगलवार की सुबह से प्रारंभ हुए बारिश 104 मि.मी. दर्ज की हैं.

    दस साल बाद बोर्डी नदी में आई बाढ़

    विगत दस पूर्व 17 जून 2012 को खामगांव शहर में जोरदार बारिश होने से बोर्डी नदी में बाढ़ आई थी. बाढ़ का पानी फरसी परिसर के इलाकों में घूसने से नागरिकों का बड़े प्रमाण में नुकसान हुआ था. जिसके बाद अब लगभग दस साल बाद 7 सितम्बर 2021 को फिर से नदी में बाढ़ आ जाने से फरसी परिसर के इलाकों में पानी घूस गया है.