Biggest teacher recruitment: Exam for teacher recruitment in Rajasthan on Sunday, lakhs of candidates have applied
Representative Photo

    खामगांव. तहसील के समूह शिक्षणाधिकारी, स्कूल पोषण आहार अधीक्षक, विस्तार अधिकारी, केंद्र प्रमुख, उच्च श्रेणी मुख्याध्यापक, विषय शिक्षक सहित मराठी एवं उर्दू माध्यम के करीब 137 पद रिक्त हैं. शिक्षकों के रिक्त पदों के कारण छात्रों का नुकसान हो रहा है. जिस कारण अब अभिभावक आंदोलन की तैयारी में हैं. शिक्षकों के रिक्त पद तुरंत भरे जाएं, ऐसी मांग अभिभावकों द्वारा की जा रही हैं.

    तहसील में जिला परिषद के 144 स्कूल होकर जिसमें मराठी माध्यम के 126 तथा उर्दू माध्यम के 18 स्कूल हैं, मराठी माध्यम के लिए 733 शिक्षकों के मंजूर पद होकर आज की स्थिति में 630 शिक्षक कार्यरत हैं, जिसमें से शिक्षकों की 103 पद रिक्त हैं. उर्दू माध्यम के 110 पद मंजूर होकर जिसमें से 90 शिक्षक कार्यरत है तथा 20 पद रिक्त हैं.

    शिक्षकों के रिक्त पदों के कारण मराठी एवं उर्दू माध्यम के छात्रों का शैक्षणिक नुकसान हो रहा हैं. विशेष मतलब तहसील के समूह शिक्षणाधिकारी पद भी रिक्त हैं, उसी तरह शालेय पोषण आहार अधीक्षक वर्ग दो, विस्तार अधिकारी के पांच पद मंजूर होकर आज की स्थिति में सभी पद रिक्त हैं. तहसील के अटाली, भालेगांव, बोथाकाजी, गणेशपुर, गोंधनापुर, हिवरखेड़, लाखनवाड़ा, निपाणा, पलशी बु, पिपलगांव राजा, रोहणा, सुटाला एवं टेंभुर्णा ऐसे 13 केंद्र होकर जिसमें पांच केंद्र प्रमुख कार्यरत हैं तो आठ पद रिक्त हैं.

    प्रभारी पर शिक्षण विभाग के सभी कारभार शुरू हैं, तहसील के लिए उच्च श्रेणी मुख्याध्यापक की 54 पद मंजूर होकर जिसमें से 27 पद रिक्त हैं तो विषय  शिक्षकों की 177 पद मंजूर होकर जिसमें से 17 पद रिक्त हैं. शिक्षण विभाग ने इस ओर विशेष ध्यान देकर शिक्षकों के रिक्त पद भरने की जरूरत हैं.

    ग्राम पाला के अभिभावकों का श्रृंखला अनशन आरंभ

    तहसील के ग्राम पाला में जिला परिषद स्कूल में 136 छात्र होकर कक्षा पहली से सातवी के लिए शिक्षकों के छह पद मंजूर हैं, लेकिन विगत दो वर्षों से यहां के तीन पद रिक्त हैं, जिस कारण छात्रों का नुकसान हो रहा हैं. इसलिए छात्रों का शैक्षणिक नुकसान टालने के लिए उक्त तीनों रिक्त पद भरे जाएं, मांग को लेकर स्कूल व्यवस्थापन समिति, ग्राम पंचायत एवं अभिभावकों ने गांव में ही श्रृंखला अनशन शुरू किया हैं. जब तक मांग पूरी होती नहीं तब तक अनशन शुरू रहेगा, उसी तरह छात्रों को स्कूल नहीं भेजेंगे, ऐसी भूमिका अभिभावकों ने ली हैं.

    रिक्त स्थान पर कुछ समय के लिए शिक्षकों की व्यवस्था

    तहसील के मराठी एवं उर्दू माध्यम के शिक्षकों के 123 रिक्त पद है. इस संदर्भ की रिपोर्ट वरिष्ठों की ओर भेजी गयी हैं. छात्रों का शैक्षणिक नुकसान टालने के लिए आज की स्थिति में जिस स्कूल पर बडे पैमाने पर शिक्षकों के रिक्त पद हैं, उस जगह अस्थायी स्वरूप में शिक्षकों की व्यवस्था की जा रही हैं.-गजानन गायकवाड़, प्रभारी समूह शिक्षणाधिकारी