अतिक्रमण कर्मचारियों से मारपीट का मामला: 20 से 25 लोगों पर केस दर्ज, 2 गिरफ्तार

    पुणे: विश्रांतवाडी के धानोरी परिसर में पुणे महानगरपालिका (पीएमसी) के अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई के दौरान मंगलवार को जमकर हंगामा हुआ था। कार्रवाई का विरोध करने के लिए जमा हुई भीड़ ने जेसीबी (JCB) पर पत्थरबाजी (Stonepelting) की। इसके बाद पीएमसी के सुरक्षा रक्षक और पीएमसी (PMC) कर्मचारियों की भीड़ ने जर्बदस्त पिटाई कर दी। इसके कारण अफरा-तफरी का माहौल बना रहा।

    इस मामले में विश्रांतवाडी पुलिस स्टेशन में शिव परांडे, मंगेश सालुंखे, राजूराम चौधरी, नरेश चौधरी और 20 से 25 लोगों के खिलाफ मंगलवार देर रात केस दर्ज किया गया। इस घटना में अतिक्रमण इंस्पेक्टर अनिल परदेशी और जेसीबी के ड्राइवर सुभाष कांबले के साथ मारपीट की गई। दोनों जख्मी हो गए है।

    अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई तेज 

    शहर के कई हिस्सों में अतिक्रमण किया गया है। कार्रवाई के दौरान दुकानदार, टपरी वाले और हाथगाड़ी वालों द्वारा गैरकानूनी रुप से बनाए गए कच्चे, पक्के निर्माण कार्य को गिरा दिया गया। पीएमसी में प्रशासकीय राज कायम होने के बाद से अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई तेज हो गई है। अधिकांश पुणेवासियों ने इसका स्वागत किया है।

    विरोध हिंसा में तब्दील 

    कार्रवाई के दौरान व्यवसायियों द्वारा इसका विरोध किया जाता रहा है, लेकिन मंगलवार को धानोरी में यह विरोध हिंसा में तब्दील हो गया। धानोरी भाग में कार्रवाई के दौरान लोगों की काफी भीड जमा हो गई थी। मनपा के कर्मचारी और अधिकारी कार्रवाई कर रहे थे। जेसीबी द्वारा गैरकानूनी रूप से बनाए गए निर्माण कार्यो को गिराया जा रहा था। इसी दौरान वहां जमा हुई भीड़ ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया। इसके बाद भीड द्वारा मारपीट शुरू कर दी गई। जेसीबी ड्राइवर और इंस्पेक्टर का कुछ दूर तक पीछा कर उनकी पिटाई की गई। इंस्पेक्टर जान बचाने के लिए भाग रहे थे, लेकिन भीड़ उनके पीछे लगी रही। इसके बाद जमी भीड़ उन पर लात घूसों के साथ टूट पड़ी। खास बात यह है कि यह कार्रवाई बगैर पुलिस सुरक्षा के की जा रही थी। इसका फायदा भीड़ ने उठाया और मारपीट की। 

    वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल 

    इस मारपीट का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है। इसमें हो रही मारपीट कितनी हिंसक थी इसकी भयावह तस्वीर सामने आई है। इस हंगामे के कारण परिसर में कुछ समय तक के लिए तनाव का वातावरण पैदा हो गया था। इस मामले में पुलिस ने तुरंत दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया। मामले की जांच विश्रांतवाडी पुलिस कर रही है।