train
File Photo

    • यात्रियों को भारी परेशानी

    बल्लारपुर. केंद्र सरकार ने सेना में युवाओं को भरती के लिए अग्निपथ योजना के विरोध में किए जा रहे विरोध प्रदर्शन को देखते हुए आज  बिहार और छत्तीसगढ़ से  दक्षिण भारत को जाने वाली कुल 5 टेनें आज रद्द कर दी है. इसकी वजह से यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है.

    ज्ञात हो कि महाराष्ट्र का बल्लारशाह रेल स्टेशन दक्षिण भारत की ओर जाने वाली ट्रेनों के लिए अंतिम स्टेशन है. अनेक स्टेशन नागपुर के बाद सीधे बल्लारशाह में रुकती है जाहं पर स्टाफ चेंज होता है. इसके बाद तेलंगाना राज्य की सीमा शुरु होती है. बिहार राज्य और छत्तीसगढ के बिलासपुर से चलकर बल्लारशाह होकर दक्षिण भारत के ट्रेन संख्या 12296 दानापुर-बेंगलुरु संघमित्रा एक्सप्रेस, ट्रेन संख्या 17007 रक्सौल-हैदराबाद एक्सप्रेस, ट्रेन संख्या 12792 दानापुर-सिकंदराबाद, ट्रेन संख्या 12390 गया-चेन्नई और  तिरुवनवेल्ली से बिलासपुर तक जाने वाली ट्रेन संख्या  22620 आज रेलवे विभाग ने रद्द कर दिया है. अचानक ट्रेनों के रद्द हो जाने की वजह से यात्रियों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है. वहीं रेलवे को भी नुकसान उठाना पडा है.   

    जनरल टिकट काऊंटर की कमी से यात्रियों को परेशानी

    बल्लारशाह महाराष्ट्र का अंतिम बडा रेल स्टेशन है. इसकी वजह से यहां से ट्रेन पकडने वालों की संख्या अधिक होती है. रेलवे विभाग ने कोरोना के बाद अब तीन पैसेंजर ट्रेन शुरु की है जो बल्लारशाह होकर जाती है. किंतु इन ट्रेनों के टिकट वितरण के लिए महज एक काऊंटर शुरु रहने की वजह से यात्रियों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इसका एक उदाहरण आज यहां पर देखने को मिला है.

    बल्लारशाह स्टेशन पर दो जनरल काऊंटर शुरु करें

    कोरोना की तीसरी लहर समाप्त होने के बाद रेल मंत्रालय ने स्पेशन और सुपर फास्ट ट्रेनों का परिचालन शुरु किया. अब धीरे धीरे स्थित सामान्य होने पर बल्लारशाह होकर अथवा बल्लारशाह से चलने वाली तीन पैसेंजर ट्रेनों को शुरु किया है. इसमें गोंदिया -बल्लारशाह , बल्लारशाह-वर्धा पैसेंजर और रामगिरी एक्सप्रेस का समावेश है. यह तीनों ट्रेन दोपहर में 2 से 2.30 बजे के बीच चलती है. इन तीन ट्रेनों के लिए बल्लारशह रेलवे स्टेशन पर महज एक टिकट काऊंटर शुरु किया जाता है. इसी प्रकार आज दोपहर एक परिवार को बिना टिकट सफर करना पडा वहीं परिवार प्रमुख बल्लारशाह में छूट गया है.

    इसकी वजह से परिवार को भारी दिक्कतों का सामना करना पडा है. लालपेठ क्रं. 1 निवासी लक्ष्मण रायमल्लू तोटा की बहन, बहनोई और उनका परिवार आज तेलंगाना के करीमनगर जाने के लिए बल्लारशाह स्टेशन पर पहुंचे थे. परिवार के लोग रामगिरी ट्रेन में बैठ गए और साला, बहनोई दोनों ट्रेन का टिकट लेने के लिए बल्लारशाह स्टेशन की कतार में खडे हो गए. किंतु जब तक उन्हे टिकट मिली रामगिरी ट्रेन अपने गंतव्य की ओर रवाना हो चुकी थी.

    इसकी वजह से जहां परिरवार प्रमुख बल्लारशाह में ही छूट गये वहीं परिवार के अन्य लोग बिना टिकट के लिए करीमनगर के लिए निकल गए. अब आगे में उन्हे क्या दिक्कतों का सामना करना पडा यह तो परिवार के लोग ही बता सकेंगे. इसलिए बल्लारशाह स्टेशन से कम से कम दो जनरल टिकट के काऊंटर शुरु करने की मांग यात्रियों ने की है.