सर्वे से भड़के नागरिक, कर्मचारियों का किया ग्रामीणों ने घेराव

    चंद्रपुर. भद्रावती तहसील के बेलोरा में नागरिकों एवं ग्रामपंचायत की पूर्व सूचना ना देते हुए बुधवार को स्थानीय निजी कंपनी के कर्मचारियों ने गांव में सर्वे शुरू किया.ग्रामीणों को इसकी कोई पूर्वसूचना नहीं थी. इससे चलते ग्रामीण भड़क उठे और उन्होने सभी कर्मचारियों का घेराव किया. इसके उपरांत इस मामले में पुलिस की मदद लेनी पड़ी.

    भद्रावती शहर से दस से बारह किमी दूरी पर स्थित बेलोरा गांव के पास डागा माईन का पट्टा अर्विडो कोयला खदान को मिला है. उक्त कंपनी की ओर से कोयला उत्पादन की हलचल शुरू हुई है परंतु भूमि अधिग्रहण साथ ही अन्य बातों के लिए ग्रामपंचायत को अब तक किसी भी तरह की जानकारी नहीं दी गई. साथ ही ग्रामसभा में किसी भी तरह का प्रस्ताव नहीं लिया गया. इसके चलते ग्रामीण एवं ग्रामपंचायत संभ्रम में है.

    गांव में माहौल संभ्रम का बना होने के बीच आज कंपनी के सभी कर्मचारी गांव में आये और गांव का सर्वे करना शुरू कर दिया. प्रत्येक नागरिकों का सर्वे कर उनके हस्ताक्षर लेना शुरू कर दिया. उक्त सर्वे के कारण नागरिकों में कुछ समझ में नहीं आ रहा था. जिससे उनमें हलचल मच गई थी. इसके चलते इस बारे में उन्होने कर्मचारियों से पूछा गया तो उन्होने कुछ भी बता पाने से इंकार कर दिया इससे ग्रामीणों में रोष निर्माण हो गया. और सभी ने एकजुट होकर कर्मचारियों को काम करने से रोक दिया और उन्हें भद्रावती पुलिस स्टेशन में लाकर अपनी रपट दी. कर्मचारियों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करायी गई है.

    इस घटना के बारे में जानकारी देते हुए थानेदार गोपाल भारती ने कहा कि ग्रामीणों ने जिन कर्मचारियों को पुलिस स्टेशन में लाया वे निश्चित तौर पर अर्विंडो कंपनी के है या एम्टा खदान के है यह भी स्पष्ट नहीं हुआ है. इस संदर्भ में आज गुरूवार को जिलाधिकारी ने ग्रामीणों के साथ बैठक आयोजित की है.

    इस संदर्भ में भाजयुमो के जिला उपाध्यक्ष आकाश वानखेडे का कहना है कि गांव में सर्वे करने के लिए आये कर्मचारियों से जानकारी हासिल करने का प्रयास किया परंतु उन्होने किसी भी तरह की जानकारी नहीं इसलिए उन्हें पकड़कर पुलिस थाने लाया गया. वे किस कंपनी के कर्मचारी है यह अब तक स्पष्ट नहीं हो पाया है.