बाघ के हमले में किसान गंभीर, बैल की मौत

    • महादवाही मोटेगांव और अडेगांव परिसर की घटना

    चिमूर. चिमूर तहसील के नेरी समीप स्थित महादवाडी मोटेगांव खेत परिसर में बाघ ने एक किसान पर हमला कर दिया. जिसमें वह गंभीर रुप से घायल हो गया. वहीं दूसरी घटना में बाघ के हमले में एक बैल की मौत हो गई है. दोनों घटनाएं क्रमश: 24 और 25 सितंबर को घटी है.

    शुक्रवार को महादवाडी निवासी किसान उततम कोरांगे (40) खेत में जा रहा था कि मांगली रीठ के सामने कामडी के खेत के पहुंचते ही दबिश देकर बैठे बाघ ने अचानक कोरांगे पर हमला कर दिया. उसने शोर मचाकर भागने का प्रयास तो बाघ ने उसे पकड लिया किंतु उसकी आवाज सुनकर पास के खेत में काम कर रहे किसान उसकी सहायता के लिए दौड़ पडे. किसानों की आवाज सुनकर बाघ जंगल की ओर भाग निकला. कोरांगे के हाथ और पीठ पर गंभीर चोट लगी है. उसे तत्काल नेरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में दाखिल किया. किंतु उसकी हालत गंभीर होने से उसे चिमूर उपजिला अस्पताल से चंद्रपुर जिला सरकारी अस्पताल भेज दिया गया है.

    पिछले कुछ महीनों में मांगली रिठ क्षेत्र के हरनी के एक किसान श्यामराव  नानावरे की खेत में काम करने के दौरान बाघ ने हमला कर दिया जिसमें उसकी मौत हो गई थी. अब तक यह बाघ कई जानवरों को मार चुका है और मोटेगांव में रात में भी गांव आता है इससे दहशत फैली है.

    दूसरी घटना में 5 दिनों पूर्व तहसील के बोथली निवासी परमेश्वर चौधरी का बैल पांच दिनों पूर्व जंगल में चरने गया था. किंतु वह नहीं लौटा था. पशुपालक ने सभी ओर उसकी तलाश की आज जंगल में उसकी तलाश की किंतु उसका कही पता नहीं चला. आज अडेगांव परिसर के चरवाहों को दुर्गंध आ रही थी उस दिशा में जाकर देखा तो वहां पर बैल मरा पडा था.

    बैल को वहां पर घसीटकर लाए जाने के बाघ के पगमार्क देखकर अनुमान लगाया कि बाघ के हमले में बैल की मौत हुई होगी. खरीफ के सीजन में बैल की मौत से पशुपालक का नुकसान हुआ है. सूचना के आधार पर वनविभाग की टीम ने पंचनामा किया. इस परिसर में बाघ के हमले की यह दूसरी घटना है. इसके पूर्व बाघ ने एक गाय को अपना शिकार बनाया था.