बॅक वॉटर में डूबा चंद्रपुर शहर, धुआंधार बारिश से ही कई इलाके जलमग्न

    • मुख्य मार्गों पर घुटनों तक पानी
    • दुकानों, मकानों में पानी जाने से भारी नुकसान

    चंद्रपुर. सोमवार से जारी बारिश ने एक बार फिर महानगर पालिका के नालों की सफाई की पोल खोल कर रख दी है. निरंतर हो रही बारिश के चलते सोमवार से लेकर आज मंगलवार की सुबह तक कुछ समय के लिए शहर के कई इलाके पानी में डूब गए. कल सोमवार और आज मंगलवार की सुबह में मात्र आधे-पौन घंटे की बारिश में ही महानगर के परकोटे में स्थित कस्तूरबा मार्ग और गांधी मार्ग तालाब की तरह नजर आने लगे.

    महानगर के नालों पर अतिक्रमण किए जाने से पूरे नाले चोकअप हो चुके है ऐसे में बारिश आते ही मात्र आधे या पौन घंटे के भीतर ही नालों की गंदगी मार्ग पर बहते हुए दिखाई देने लगती है और लोगों को मजबूरन गंदगी युक्त पानी से वाहन अथवा पैदल जान हथेली पर रखकर चलना पड़ता है आज मंगलवार को भी कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला.

    जिले में रविवार की शाम से ही मानसून ने जोर पकड़ा है. रविवार की शाम को काले बादलों के छाने के बाद आयी बारिश के बार कुछ समय ही रास्ते तालाब नजर आने लगे थे. यही स्थिति सोमवार को भी रही. मात्र चंद मिनटों की बारिश से ही रास्तों पर बॅक वाटर नजर आने लगा था. आज मंगलवार को तीसरे दिन भी परकोटे के भीतर और बाहर कई स्थानों पर बॅकवॉटर ने लोगों को संकट में डाल दिया. वर्षा के कारण बारिश का पानी नाली, नालों से ओवरफ्लो होकर मुख्य मार्ग पर बह रहा था. गांधी और कस्तूरबा मार्ग तो तालाब की तरह नजर आ रहे थे. ऐसी स्थिति अमूमन शहर के सभी इलाकों में थी.

    शहर के विवेकनगर, सरकार नगर, तुकूम, राधाकृष्ण टाकीज परिसर, जयंत टॉकीज परिसर, छोटूभाई पटेल स्कूल के सामने, कस्तूरबा मार्ग, बालाजी वार्ड, दुर्गापुर, उर्जानगर बंगाली कैम्प, रामनगर, रहेमत नगर, सिस्टर कालोनी, नगीनाबाग, ट्रैफिक कार्यालय के सामने, मित्रनगर , राष्ट्रवादी नगर, वृंदावननगर आदि परिसर में सड़कों पर करीबन 2 से 4 फूट पानी जमा होने से लोगों को आवागमन में काफी दिक्कतें पेश आयी. यहां नालों की ठीक ढंग से सफाई नहीं होने से चोकअप हो चुके नालों का सारा गंदा पानी उफान मारता हुआ सड़कों पर बह रहा था. मात्र चंद मिनटों की बारिश ने महानगर पालिका के आपदा प्रबंधन की पूरी तरह से कलई खोल कर रख दी.

    आज मंगलवार को सुबह में धुआंधार बारिश हुई. जिसके चलते कामकाज के लिए घर से बाहर निकले लोगों को आसपास के सुरक्षित स्थानों पर शरण लेनी पड़ी. वही सड़क के किनारे ठेला लगाकर रोजी रोटी कमानेवालों के रोजगार पर बारिश का काफी असर हुआ. किसी से तिरपाल ढंककर अपना माल सुरक्षित किया तो कोई अन्य सुरक्षित स्थान पर पहुंचे.अचानक हुई बारिश के कारण लोग जगह जगह पर आसरा खोजते हुए नजर आए.

    मूसलाधार बारिश का बच्चों ने जमकर मचा लिया. सड़कों पर जमा पानी में मस्ती करते हुए बच्चों ने बारिश का जमकर आनंद लिया. बारिश तो मात्र चंद मिनटों तक ही रही परंतु इतनी ही बारिश में सड़के तालाब की तरह नजर आ रही थी. दरअसल यह पानी नालियों और नालों में बहने के बजाय सड़कों पर जमा हो चुका था.

    पानी में वाहन खींचते नजर आये वाहन चालक

    कस्तूरबा रोड पर हिन्दी सिटी हाईस्कूल के पास बने नाले के ओवरफ्लो होकर बहने से यहां स्टेट बैंक आफ इंडिया, कत्याल इंजीनियरिंग वर्क्स, पेट्रोलपंप के पास तालाब की स्थिति थी. लोग घुटनों तक जमा हो चुके पानी से अपने वाहन लेकर गुजर रहे थे. जिससे कई वाहन चालकों के वाहन में पानी जाने से उन्हें आगे वाहन खींचते हुए ले जाना पड़ा. सड़क किनारे दुकानों में पानी आने से नुकसान हुआ. वहीं पेट्रोल पम्प पर वाहन पानी में डूबे हुए थे. यही स्थिति गांधी मार्ग पर आजाद बगीचे के सामने नजर आयी.

    निचले इलाके जलमग्न

    निरंतर हो रही बारिश से शहर के कई क्षेत्रों के निचले इलाके जलमग्न हो गए है. अपार्टमेंटों के बेसमेट, आदि में पानी जमा होने से स्थानीय नागरिकों के वाहनों पानी में डूबे नजर आए. स्थानीय नागरिकों को मोटरपंपर लगाकर पानी की निकासी करनी पड़ी. स्थानीय मित्रनगर में कुछ घरों में पानी जाने से प्रशासन एवं नगरसेवक मदद के लिए पहुंचे और जायजा लिया.

    घरों में पानी आने से नागरिकों को काफी असुविधा का सामना करना पड़ा. आगे ऐसी घटनाएं ना हो इसके लिए उपाययोजना करने की मांग स्थानीय नागरिकों ने की. सिंधी कालोनी परिसर में दुर्गा माता मंदिर वार्ड जलमय होने स रास्ते के समीपस्थ कुछ दोनों में पानी जाने से दुकानदार बाटली से पानी फेक रहे थे. दुकान में पानी जाने से सामानों, आलमारी आदि का नुकसान हुआ.

    जिले भर में धुआंधार बारिश

    जिले भर में आज धुआंधार बारिश हुई है. इसके चलते नदी नालों का जलस्तर बढ गया है. छोटे पुलों से पानी बहने के कारण यातायात पूरी तरह से ठप हो गई है. चंद्रपुर जिले में आज सभी तहसीलों में अच्छी मूसलाधार बारिश हुई. इसमें चंद्रपुर में 53.2 मिमी, मूल में  73.6 मिमी, गोंडपिपरी में  32.8 मिमी, वरोरा में  37.7 मिमी, भद्रावती में  43.7 मिमी, चिमूर में  23.6 मिमी, ब्रम्हपुरी में 41 मिमी, नागभीड़ में  38.1 मिमी, सिंदेवाही में  93 मिमी, राजुरा में  10 मिमी, कोरपना में 12.1 मिमी सावली में  44.7 मिमी, बल्लारपुर में  16.5 मिमी, पोंभूर्णा में  24 मिमी और जिवती में 8 मिमी बारिश हुई.

    बारिश से पुल क्षतिग्रस्त

    आदिलाबाद राज्य मार्ग पर कन्हालगांव के पास छोटे नाले का पत्थर बह जाने से मार्ग पर रास्ते पर चारफूट का गहरा गड्ढा निर्माण हो गया. इससे दुर्घटना होकर जीवहानि होने का खतरा बढ गया है बारिश के पानी से क्षतिग्रसत पुल की मरम्मत करने की मांग स्थानीय नागरिकों ने की है. पिछले कई दिनों से निरंतर बारिश के कारण मार्ग पर एक छोर के पत्थर उखड गए है. इससे रास्ते पर बड़े बड़े गडढे निर्माण हो गए है.

    मोबाईल दुकान में पानी घुसा

    सिंदेवाही तहसील के वासेरा में मंगलवार की सुबह मूसलाधार बारिश होने से दुकान के समीपस्थ नाली चोकअप होने से बारिश का पानी दुकान में आने से मोबाईल के स्पेअर पार्ट, रिपरिंग का सामान पानी में बह गया.दुरूस्ति को दिए गए कई मोबाईल भी भीग जाने से दुकानदार का हजारों रूपयों का नुकसान हुआ ऐसी जानकारी दुकान मालिक अविनाश नागोराव लोखंडे ने दी.

    मूसलाधार बारिश से घर धराशायी

    चिमूर (सं) तहसील में हो रही मूसलाधार बारिश के कारण शिवणपायली और लावारी में घर गिरने की घटनाएं हुई है. अनेक घरों में पानी घुसने से काफी नुकसान हुआ है. गांव के रास्तों पर धो धो पानी बहने से परिसर का जनजीवन पूरी तरह से प्रभावित हो गया.

    लगातार हो रही जोरदार बारिश के कारण लावारी  ग्राम के श्रीकुशना लोनबले के घर आज मंगलवार के तडके धराशायी हो गया. इसमें घर में रखा सारा सामान, अनाज आदि जमींदोज निर्माण हो गया. शिवणपायली के महेश वासुदेव तुमराम के घर ढह गया इससे उनका भी लाखों रूपयों का नुकसान हुआ. नवतला में कई घरों में पानी घुस गया. रास्ते पर धो धो होकर पानी बह रहा था. मोटरपंप लगाकर पानी की निकासी करनी पड़ी. घर गिरने की जानकारी पूर्व सरपंच महादेव कोकोडे ने सिरपुर के तलाठी निखाडे को दी.