मनसे ने एमपीसीबी को दिया 15 दिन का अल्टीमेटम, प्रदुषण फैलाने जिम्मेदार उद्योगों पर करे कार्रवाई_ पार्षद भोयर

    चंद्रपुर. चंद्रपुर जिला औद्योगिक शहर के रूप में विख्यात है. यहां के उद्येागों से फैलनेवाले प्रदुषण के चलते शहरवासीयों का विभिन्न बिमारीयों का सामना करना पड रहा है. इसके बावजूद एपीसीबी कार्यालय इनपर कार्रवाई करने में शोपीस बना हुआ है. इस संदर्भ में मनसे पार्षद सचिन भोयर ने प्रदुषण नियंत्रण विभाग के उपप्रादेशिक अधिकारी विनोद शुक्ला व भादुले से भेट कर प्रदुषण फैलानेवाले उद्योगों पर सक्त कार्रवाई करने की मांग का ज्ञापन दिया. अन्यथा 15 दिन का अल्टीमेटम देते हुवे तिव्र आंदोलन करने का इशारा दिया है.  

    चंद्रपुर के आसपास कोयला खदान, लोह_पोलाद कारखाना, सिमेंट उद्योग, सीटीपीएस, एमआयडीसी परिसर में उद्योग व अन्य उद्योग बडी संख्या में है. यह उद्योग निर्माण करते समय एपीसीबी अर्थात महाराष्ट्र प्रदुषण विभाग द्वारा तय किए गए निकषो के आधार पर प्रदुषण पर नियंत्रण रखा जाता है. परंतु प्रत्यक्ष रूप में वैसा होता दिखाई नही दे रहा है.

    जिले में बडे पैमाने में वायू प्रदूषण, जल प्रदूषण, ध्वनी प्रदूषण बढ रहा है. परंतु संबंधित उद्योग पर किसी प्रकार के प्रतिबंधात्मक कार्रवाई नही की जा रही है. आर्थिक लाभ के चलते नाममात्र जुर्मानात्मक कार्रवाई की जा रही है. बढता प्रदुषण चंद्रपुर वासियों के लिए चिंता का विषय बना है. प्रदुषण से आंखो की जलन, सास की बिमारी, त्वचा रोग, रक्त की आक्सिजन का स्तर कम होना, पेट की बिमारी, मानवी अवयवों पर विपरित असर हो  रहा है. 

    इसी बीच मंगलवार को सीटीपीएस के पास दुर्गापुर में बारिश के साथ केमिकल युक्त झागयुक्त बारिश से संपुर्ण चंद्रपुर शहर में भय फैला हुआ था. बढते प्रदुषण से चंद्रपुर के नागरिकों के स्वास्थ पर विपरित असर हो रहा है. चंद्रपुर के नागरिकों की स्वास्थ को धोके को ध्यान में लेते हुए महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना ने प्रदुषण पर आक्रमक भूमिका ली. मनसे के पार्षद सचिन भोयर समेत मनवासे जिलाध्यक्ष भरत गुप्ता, जनहित कक्ष के जिलाध्यक्ष राजू बघेल, महिला सेना जिला उपाध्यक्ष शोभाताई वाघमारे, शहराध्यक्ष प्रतिमा ठाकूर, मनवासे शहराध्यक्ष असलम शेख, जब्बार भाई, महाराष्ट्र सैनिक राकेश पराडकर, राकेश लांडे ,भारत जोगी आदि ने चंद्रपुर एमपीसीबी प्रादेशिक कार्यालय पहुचकर उपप्रादेशिक अधिकारी विनोद शुक्ला व भादुले से भेट कर प्रदुषण फैलानेवाले उद्योगों पर कार्रवाई करने की शिकायत की. आगामी 15 दिनों में उचित कारवाई नही करने पर तिव्र आंदेालन करने का इशारा मनसे ने दिया है.