In Maharashtra, 65 people died in just 9 months in wild animal attacks, 23 tigers died in 6 months, the state government said
File Photo

    मानव-वन्यजीव संघर्ष चरम पर

    चंद्रपुर/ भद्रावती: जिले भर में एक बार फिर मानव-वन्यजीव संघर्ष चरम पर पहुंचाता हुआ नजर आ रहाहै. आज शनिवार को ताडोबा बफर जोन अंतर्गत आनेवाले सीताराम पेठ गांव में तेंदूपत्ता संकलन करने गई महिला को बाघ ने अपना  शिकार बनाया. इस घटना से पूरे गांव भर में दहशत छायी हुई है. इस साल बाघ और तेंदूए के हमले में यह अब तक 14 वीं मौत है. जबकि पिछले साल पूरे साल भर में बाघ और तेंदूए के हमले में 39 लोगों ने अपनी जान गंवाई थी. 

    प्रापत जानकारी अनुसार ताडोबा बफर जोन से सटे सीताराम पेठ गांव के पास जयश्रीया रिसोर्ट के पीछे बफर जोन में 10 महिलाएं तेंदूपत्ता संकलन हेतु गई थी,तेंदूपत्ता जमा करते समय मोहुर्ली गांव की महिला जाईबाई जेगंठे (65 साल) के ऊपर बाघ ने हमला करके उसे मार गिराया, घटना सुबह 8:00 बजे की है,महिला के ऊपर हमला करके बाघ उसे 10 फीट तक घसीटकर ले गया, जब बाकी महिलाओं ने शोर मचाया तो शेर जंगल की ओर भाग गया,लेकिन तब तक महिला की जान जा चुकी थी,

    इस खबर की जानकारी जैसे ही गांव वालों को मिली लोगों की भीड़ उस तरफ बढ़ी, तुरंत ही इसकी इस घटना की जानकारी वन विभाग को दी गई, बफर जोन वन परिक्षेत्र अधिकारी  आर जी मून अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और महिला महिला के परिवार को तुरंत 50000 की मदद दी गई, इस समय गट ग्राम पंचायत की सरपंच सुनीता कातकर, पुलिस पटेल रामकृष्ण खारकर, वनविभाग अधिकारी,कर्मचारी, उपस्थित थे.

    इस घटना को लेकर पूरे गांव में बाघ को लेकर दहशत छायी हुई है. ब्रम्हपुरी, नागभीड़, सिंदेवाही, मूल_सावली के बाद भद्रावती भी अब बाघ के हमलों का केन्द्र बन चुका है. शहरी क्षेत्र में सीटीपीएस परिसर और दुर्गापुर में बाघ और तेंदुए का आतंक पहले से ही है. वन्यजीव और मानव संघर्ष में हर सलाह बडी संख्या में लोगों की मौत होती है. यह घटनाएं अक्सर ग्रीष्मकाल में ही अधिक होती है. जिस तरह से घटनाएं बढ रही है उसे वनविभाग और प्रशासन समेत राज्य सरकार गंभीरता से उपाय पर ध्यान देने की आवश्यकता है.

    इस घटना के संदर्भ में वनविभाग ने बताया कि  बाघ की पहचान के लिए यहां कैमरा ट्रैप लगाया गया है इस क्षेत्र में फिर घटना ना हो इसलिए एसटीपीएफ और आर आर टी के कर्मचारियों को तैनात किया गया है. लोगों को भी जंगल में ना जाने से आगाह किया गया है.