…और पुलिस जवान बने खेतीहर मजदूर, किसान को मदद करने पहुंचे खेत

    सिरोंचा . गड़चिरोली यह जिला संपूर्ण राज्य में नक्सलग्रस्त जिले के रूप में परिचित है. इस जिले में पनप रहे नक्सलवाद का खात्मा करने के लिये पुलिस जवान तत्पर होकर हाल ही में जिला पुलिस दल के जवानों ने नक्सल आंदोलन की कमर तोड़ते हुए 27 नक्सलियों को मार गिराया है.

    एक तरफ पुलिस जवान नक्सलियों का खात्मा कर रहे है, वहीं दुसरी ओर जिले के किसान और जरूरतमंद नागरिकों को सहायता भी कर रहे है. ऐसा ही एक मामला जिले की सिरोंचा तहसील के रेगुंठा गांव में सामने आया. जहां हथियार चलानेवाले हाथ खेत में मजदूरी करने लगे.  वर्तमान स्थिति में इस क्षेत्र में कपास फसल का संकलन करना शुरू है.

    ऐसे में स्थानीय किसान को कपास फसल संकलन करने के लिये रेगुंठा पुलिस थाने में कार्यरत पुलिस अधिकारी और जवानों ने एक किसानों को कपास का संकलन करने के लिये सहायता की. जिससे रेगुंठा पुलिस के कार्य की सराहना की जा रही है. 

    अभियान पर तैनात थे जवान

    गुरूवार से जिले में नक्सलियों द्वारा पीएलजीए सप्ताह मनाया जा रहा है. इसी बीच रेगुंठा पुलिस की एक तुकड़ी ्रथाने के प्रभारी अधिकारी विजय सानप के नेतृत्व में जंगल में सर्चिंग अभियान कर रही थी. इसी दौरान रेगुंठा निवासी मधुकर गाडपल्ली नामक किसान अपने खेत में पत्नी और मां के साथ कपास फसल का संकलन कर रहा था.

    इसी बीच पुलिस जवान खेत परिसर में पहुंचे. तब संबंधित किसान ने हवा के चलते कपास फसल हवा में उडऩे की जानकारी किसान पुलिस जवानों को दी. जिससे जवानों ने किसान की व्यथा सुन किसान व उसके परिवार के साथ कपास फसल संकलन करने में सहायता की. 

    किसान ने माना पुलिस जवानों का आभार 

    अभियान पर तैनात पुलिस जवानों ने मधुकर गाडपल्ली के मालिकाना 2 एकड़ खेती से कपास फसल संकलन करने में मदद की. पुलिस जवान और किसान के परिवार ने करीब 4 क्विंटल कपास का संकलन किया. बता दे कि, मधुकर गाडपल्ली को कपास संकलन करने के लिये मजदूर नहीं मिलने के कारण वह अपनी मां और पत्नी के साथ ही कपास संकलन करने लगा था. ऐसे में अचानक पुलिस जवान उसके खेत में पहुंचकर कपास संकलन करने में मदद करने से संबंधित किसान ने पुलिस जवानों का आभार व्यक्त किया है.