देसाईगंज में आंगनवाड़ी कर्मियों ने किया आंदोलन, 84 मोबाईल किये वापिस

    देसाईगंज. आंगनवाड़ी कर्मियों को दिये गये मोबाईल यह पुराने होकर बंद पड़ गये है. जिससे आंगनवाड़ी कर्मियों को मोबाईल दूरूस्ती का खर्च उठाना पड़ रहा है. जिससे मंगलवार को आयटक के नेतृत्व में आंगनवाड़ी कर्मचारियों ने मोबाईल वापिस करों आंदोलन किया. यह आंदोलन देसाईगंज के बाल विकास प्रकल्प अधिकारी कार्यालय के सामने किया गया. इस समय आंगनवाड़ी कर्मचारियों ने पुराने, बंद पड़े 84 मोबाईल वापिस किये गये.

     आंदोलनकर्ताओं ने कहा कि, सरकार द्वारा आंगणवाड़ी कर्मचारियों को पोषण ट्रॅकर एप पर जानकारी देने के लिये स्मार्टफोन दिया है. मात्र दिये गये मोबाईल पुराने होकर बंद पड़ गये है. मोबाईल दुरूस्ती करने के लिये कर्मचारियों को 5 हजार से अधिक खर्च उठाना पड़ रहा है. इस संदर्भ में प्रशासन के माध्यम से अनेक बार सरकार का ध्यानाकर्षण कराने के बावजूद भी उपाययोजना नहीं की गई. जिसके कारण आंगनवाड़ी कर्मचारियों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

    जिससे यह मामला रोककर सरकार पुराने मोबाईल वापिस लेकर नये अच्छे मोबाईल दे, इस मांग को लेकर आंदोलन किया गया. आंदोलन में आयटक के देवराव चवले, कामगार नेता डा. महेश कोपुलवार के नेतृत्व राधा ठाकरे, मिनाक्षी शेंडे, कांता फटिग, रेवता बारसकर, सविता बुध्दे, कोमल सहारे, मीरा बांगरे, वर्षा सोनवाने, कालिंदा भर्रे, मीरा बुध्दे, रसिका कुथे, श्रध्दा घोडेस्वार, मंदा उके, अश्विनी बुध्दे, सुवर्णा तितिरमारे समेत बड़ी संख्या में आंगनवाड़ी कर्मी उपस्थित थे.