3 दिनों में धान की खरीदी न करने पर चक्काजाम, विधायक गजबे की ज्ञापन से चेतावनी

    देसाईगंज. देसाईगंज तहसील समेत जिले में किसानों के रब्बी धान  फसलों की कटाई, कुटाई शुरू है. राज्य सहकारी खरीदी बिक्री महामंडल व आदिवासी विकास महामंडल द्वारा अभी तक खरीदी प्रक्रिया शुरू नहीं की गई. जिससे किसानों के धान की खरीदी प्रक्रिया 3 दिनों में निर्धारित उद्देष्ट के पुर्तता समेत न करने पर देसाईगंज तहसील समेत जिले भर में चक्काजाम आंदोलन छेडने की चेतावनी विधायक कृष्णा गजबे ने जिलाधिकारी के माध्यम से अन्न पुरवठा मंत्री तथा पालकमंत्री को भेजे हुए ज्ञापन से दी है.

    ज्ञापन में कहा गया है की, देसाईगंज समेत आरमोरी तहसील के कुछ क्षेत्र में इटियाडोह सिंचाई विभाग द्वारा खेती को जलापूर्ति की जाती है. तथा बाकी क्षेत्र में मोटारपंप इंधन कुए द्वारा किसानों ने काफी मेहनत से ग्रीष्मकालीन धान फसल हाथ में ली है. पिछले रब्बी सीजन में सहकारी खरीदी केंद्र व आदिवासी विकास महामंडल ने अधुरा धान खरीदी कर किसानों के साथ अन्याय किया है. फलस्वरूप अधिकांश किसान धान बिक्री से वंचित रहे थे.

    इस वर्ष प्रकृति का सामना कर किसानों ने रब्बी धान फसल लिए है. वर्तमान स्थिती में धान कुटाई प्रक्रिया शुरू रहते समय धान खरीदी के उद्दिष्ट की सरकार की ओर से स्पष्टता न होने से अभी तक जिले में धान खरीदी केंद्र शुरू नहीं हुआ. सरकार परिपत्रक के अनुसार गडचिरोली जिला सहकारी संस्था को 40226 क्विंटल, आदिवासी विकास महामंडल अहेरी विभाग को 50509, व आदिवासी विकास महामंडल गडचिरोली विभाग को 85000 क्विंटल ऐसे कुल 1 लाख 35 हजार 509 क्विंटल धान खरीदी के उद्दिष्ट निर्धारित किए है.

    धान बिक्री के लिए 13 हजार पर किसानों ने पंजीयन करने से 24 क्विंटल प्रती हेक्टअर मर्यादा की तरह 5 लाख क्विंटल धान खरीदी अपेक्षित है. किंतू मर्यादित धान खरीदी का उद्दिष्ट देने से शेष धान कहा बेचे ऐसा प्रश्न किसानों को है. जिससे किसानों का आर्थिक शोषण होने की संभावना बढ़ चुकी है. जिससे सरकार ने खरीदी के इष्टाक में वृद्धी कर पंजीयनकृत आवेदन की तरह आनेवाले 3 दिनों में धान खरीदी केंद्र शुरू करे, अन्यथा तीव्र आंदोलन छेडने की चेतावनी विधायक गजबे ने ज्ञापन से दी है.