करोडों हुए खर्च, मगर गड्ढों से नहीं मिली मुक्ती – निर्माण विभाग का अनियमित कारभार उजागर

गड़चिरोली. लोकनिर्माण विभाग अंतर्गत कोरची-बोटेकसा इस 15 किमी मार्ग की प्रति वर्ष मरम्मत किया जाता है. विगत 6 माह पूर्व भी इस मार्ग का खडीकरण किया गया. विगत 2 वर्षो में इस मार्ग पर 6 से 7 बार मरम्मत कार्य किया गया. इसके लिए सरकार ने करोडों रूपये खर्च किए. मात्र अब भी जानलेवा गड्ढे कायम है. जिससे लोकनिर्माण विभाग का अनियमित कारभार उजागर हुआ है. 

कोरची में लोकनिर्माण विभाग का उपविभागीय कार्यालय है. वहीं जिला परिषद अंतर्गत निर्माण विभाग कार्यरत है. इन दोनों विभाग अंतर्गत अविकसित, नक्षलग्रस्त तहसील में विकासात्मक कार्य किए जा रहे है. संबंधित दोनों विभाग मार्फत बारी-बारी से कार्य किए जाते है. इसके बावजूद तहसील के सडकों की हालत दयनिय हुई है. तहसील में प्रति वर्ष सडकों के कार्य करने के लिए सरकार द्वारा करोडों रूपयों का निधी मंजूर किया जाता है. निविदा प्रक्रिया संपन्न कराई जाती है.

मात्र अप्रशिक्षित ठेकेदारों के मार्फत उक्त सडकों के कार्य किए जाते है. उक्त निर्माणकार्य के दखरेख की ओर लोकनिर्माण के अधिकारी अनदेखी करने के चलते तहसील के सडकों के कार्य घटियास्तर के होते आए है. फलस्वरूप सडकों की स्थिती ‘जैसे थे’ है. कोरची-बोटेकसा इस 15 किमी मार्ग का 6 माह पूर्व निर्माण किया गया था. इससे पूर्व विगत 2 वर्षो में इस सडक की अनेक बार मारम्मत भी की गई. मात्र सडकों पर के गड्ढों से यात्री तथा वाहनधारकों को मुक्ती नहीं मिली है. जिससे लोनिवि के कार्यप्रणाली के प्रति नागरिकों में रोष व्यक्त हो रहा है.