File Photo
File Photo

    गड़चिरोली. इस वर्ष मौसम विभाग ने मानसून का समय से पहले आगमन होने का संकेत दिया था. लेकिन हमेशा की तरह मौसम विभाग का अंदाग लगम साबित होकर रोहणी नक्षत्र सूखा गया. मृग नक्षत्र को शुरूआत होकर तीन दिन बित जाने के बाद भी मानसून का आगमन नहीं हुआ है. जिससे किसानों में चिंता का वातावरण निर्माण होकर किसान बड़ी बेसब्री से बारिश की प्रतिक्षा कर रहे है. 

    इस वर्ष रोहनी नक्षत्र 25 मई से शुरू हुआ. यह नक्षत्र सूखा जाने के बाद मृग नक्षत्र 8 जून को शुरू होकर अब तीन दिन पूर्ण होने के बाद भी मानसून का आगमन नहीं हुआ है. लेकिन दुसरी ओर पारा काफी बढ़ जाने से आम नागरिकों समेत किसान त्रस्त हो गये है. अब किसान खरीप सत्र में खेती का नियोजन कर बारिश की प्रतिक्षा कर रहे है.

    देश में मानसून का आगमन होने के बाद महाराष्ट्र के किसान भी बारिश की प्रतिक्षा कर रहे थे. मुंबई में 11 जून तक मानसून की शुरूआत होने की संभावना है. स्कायमेट वेदर नामक कंपनी ने इस संदर्भ में ट्विट भी किया है. वहीं इस वर्ष औसतन से 37 फिसदी बारिश कम होने की संभावना जताई जा रही है. लेकिन अब तक बारिश नहीं होने के कारण किसानों में चिंता का वातावरण निर्माण हो गया है.