मृतक नाबालिग को न्याय दिलाने मांग, सैकडों नागरिकों ने निकाला कलेकटर पर मोर्चा

    • न्याय दो, न्याय दो के नारे से गुंजा शहर

    गड़चिरोली. गड़चिरोली तहसील के अमिर्झा टोली गांव निवासी किरण चंदनखेड़े नामक नाबालिग युवती का गांव समीपस्थ तालाब में शव मिला था. पुलिस ने जांच कर किरण ने आत्महत्या करने की बात कही. लेकिन यह आत्महत्या न होकर किरण की हत्या कर उसका शव तालाब में फेंका गया.

    किरण के संदेहास्पद हत्यारे के खिलाफ थाने मे शिकायत दर्ज कराई गयी. लेकिन अब तक संदेहास्पद आरोपी के खिलाफ किसी भी तरह की कार्रवाई नहीं की गई है. जिससे किरण के मृत्यु मामले की जांच कर दोषी हत्यारे पर कड़ी कार्रवाई करें, इस मांग को लेकर बुधवार को अमिर्झा क्षेत्र के सैकड़ों नागरिकों ने जिलाधिश कार्यालय पर मोर्चा निकाला. वहीं मोर्चे के दौरान किरण को न्याय दो, न्याय दो के नारे लगाए गए, जिससे इन नारों से संपूर्ण शहर गुंज उठा था. इस आंदोलन में सैकड़ों नागरिक उपस्थित हुए थे.

    मुख्य चौक में किया चक्काजाम

    दोपहर 1 बजे के दौरान स्थानीय इंदिरा गांधी समीपस्थ राजीव भवन से सैकडों नागरिकों ने जिलाधिश कार्यालय पर मोर्चा निकाला. लेकिन इस मोर्चे के पहले आंदोलनकर्ता ग्रामीणों ने मुख्य चौक में चक्काजाम आंदोलन किया. इस आंदोलन से काफी देर तक शहर के मुख्य मार्गो की यातायात प्रभावित हो गयी थी. जिसके बाद मोर्चा जिलाधिश कार्यालय की ओर बढ़ा. चक्काजाम आंदोलन समाप्त होने के बाद मुख्य मार्ग की यातायात पूर्ववत शुरू हो गयी. बता दे कि, इस आंदोलन में अमिर्झा परिसर के करीब 10 गांवों के सैकडों नागरिक उपस्थित हुए थे.

    आंदोलन को समर्थन देने पहुंचे विधायक

    10 गांवों को नागरिकों का मोर्चा जिलाधिश कार्यालय में पहुंचते ही गड़चिरोली विस क्षेत्र के विधायक डा. देवराव होली आंदोलनकर्ताओं की सभा में पहुंचे. वहीं इस आंदोलन को समर्थन देने की बात कहते हुए पिडि़त परिवार को  न्याय दिलाने के लिये हरसंभव प्रयासरत होने का आश्वासन दिया. इसके बाद विधायक डा. होली के नेतृत्व में आंदोलनकर्ताओं के शिष्टमंडल ने जिलाधिश संजय मीणा की भेट ली. और उन्हें घटना संदर्भ में अवगत कराते हुए पिडि़त परिवार का न्याय देने की मांग की. जहां जिलाधिश मीणा ने पिडि़त परिवार का न्याय दिलाने का आश्वासन दिया.

    तो दोबारा करेंगे आंदोलन

    किरण चंदनखेड़े की हत्या कर उसका शव तालाब में फेंका गया. संदेहास्पद आरोपी की शिकायत करने के बाद भी पुलिस मामले की जांच करने में लापरवाही बरत रही है. जिसके कारण मामले का आरोपी समाज में खुलेआम घुम रहा है. इस मामले की गंभीरता से जांच कर आरोपी को गिरफ्तार न करने पर दोबारा आंदोलन किया जाएगा. ऐसी चेतावनी संविधान बचाव आंदोलन समिति के पदाधिकारी और आंदोलनकर्ता ग्रामीणों ने दी है. इस समय आंदोलनकर्ताओं ने जिला पुलिस अधिक्षक अंकित गोयल की भेट लेकर उन्हें मांगों का ज्ञापन सौंपा है.