Maharashtra government constitutes committee to investigate issues related to Medigadda barrage

    गड़चिरोली. बहूचर्चित तेलंगणा राज्य के मेडीगड्डा बैरेज से लगातार पानी का बड़ा विसर्ग शुरू है. फिलहाल इस बैरेज से करीब 28 हजार 578 क्युमेक्स पानी का विसर्ग शुरू होने से गोदावरी नदी का जलस्तर बढ़ चुका है. फलस्वरूप इस नदी तट समीप होनेवाली खेत जमीन फिर से एक बार बाढ में अटकी है. बाढ स्थिती ध्यान में लेते हुए नदी तट के गावों को प्रशासन ने सतर्क रहने के संकेत दिए है. 

    विगत कुछ दिनों से जिले में बारिश जारी होकर राज्य के अन्य हिस्सों में हुई मुसलाधार बारिश से नदियों का जलस्तर बढ़ गया है. तथा बड़े पैमाने में बांध से पानी का विसर्ग शुरू होने से जिले के नदियों के जलस्तर में लक्षणीय वृद्धी हुई है. जिले का आखरी छोर होनेवाले सिरोंचा शहर परिसर में  इस पानी के विसर्ग से सर्वाधिक फटका लगा है.

    गोदावरी, प्राणहिता नदी का जलस्तर बढने से नदी तट की सैकड़ो हेक्टेअर जमीन तीसरी बार पानी के नीचे जाने से मिर्च, कपास उत्पादक किसानों को बड़ा फटका लगा है. गोसीखुर्द बांध के 5 गेट खोले गए होकर 763 क्युमेक्स विसर्ग शुरू है. चामोर्शी तहसील के चिचडोह बैरेज के पूर्ण 38 गेट खोले गए होकर वहां से 1966 क्युमेक्स पानी का विसर्ग शुरू है. जिले के वैनगंगा, इंद्रावती, पर्लकोटा नदी का जलस्तर चेतावनी स्तर के नीचे होने से आपदा प्राधिकरण विभाग ने सुचित किया है. 

    2 दिन फिर से ‘यलो अर्लट’

    गुलाबी तुफाने के चलते राज्य के विभिन्न जगह मुसलाधार बारिश की संभावना जताई जा रही है. जिसके तहत मौसम विभाग ने जिले में भी 30 सितंबर व 1 अक्टूंबर ऐसे 2 दिन जिले में जगह जगह हलके व मध्यम तथा कुछ जगह बिजली के कड़कड़ाहट समेत अतिवृष्टी की संभावना जताई है.