File Photo
File Photo

    • राममोहणपुर गांव की घटना
    • घटना से संपूर्ण जिले में मची खलबली

    गड़चिरोली. तालाब की मच्छलियां चोरी न हो और जंगली पशु तालाब परिसर में न पहुंच पाए, इस लिये एक किसान ने अपने खेत स्थित मच्छली तालाब परिसर में बिजली का करंट लगाकर रखा. मात्र इस मामले से अनजान एक 11 वर्षिय बालक और 18 वर्षिय युवक तालाब परिसर में जाते की बिजली के तिवित तारों का स्पर्श होकर दोनों की घटनास्थल पर मौत हो गयी.

    वहीं शाम होने के बावजूद भी पोता घर वापिस नहीं लौटने से अपने पोते की तलाब में संबंधित तालाब परिसर में गयी एक 65 वर्षिय वृध्द महिला की भी करंट लगने से मृत्यु हो गयी. यह घटना मंगलवार को जिले की चामोर्शी तहसील के राममोहणपुर गांव में घटी. मृतकों में राममोहणपुर गांव निवासी राजु रामकृष्ण बिश्वास (18), विरकुमार सुभाष मंडल (11) और राजु बिश्वास की दादी कमला बिश्वास (65) का समावेश है. यह घटना बुधवार को सुबह उजागर होते ही संपूर्ण जिले में खलबली मच गयी है.

    अपनी ही मां और बेटे के मृत्यु का कारण बना किसान

    राममोहणपुर गांव निवासी रामकृष्ण बिश्वास ने अपने खेत परिसर स्थित मच्छली तालाब से मच्छलियों की चोरी न हो, इसलिये तालाब परिसर में बिजली का करंट लगाए रखा था.

    इस बीच मंगलवार को सुबह 11 बजे के दौरान किसान का बेटा राजु बिश्वास और उसका मित्र विरकुमार मंडल यह दोनों राजु के खेत में गये थे. लेकिन उन्हें तालाब परिसर में करंट बिछाए होने संदर्भ में जानकारी नहीं थी. जिसके कारण तालाब परिसर में पहुंचे ही दोनों की करंट लगने से मृत्यु हो गयी.

    वहीं इधर शाम तक पोता घर नहीं पहुंचने के बाद राजु की दादी तथा संबंधित खेत मालिक की मां कमला बिश्वास भी अपने पोते को खोजने के लिये खेत में पहुंची. तालाब परिसर में जाने पर दोनों के शव दिखाई देने पर वह अपने पोते के पास पहुंची. जैसे ही उसने अपने पेाते को स्पर्श किया वैसे की वृध्द महिला की मृत्यु हो गयी. जिससे अपनी मां और बेटे के मृत्यु कारण किसान होने की बात कही जा रही है.

    बाल-बाल बची एक महिला

    जब शाम होने के बाद भी राजु बिश्वास घर नहीं पहुंचा तो उसकी दादी कमला बिश्वास राजु खोजबिन करने गांव में निलक पड़ी. इसी बीच एक महिला ने राजु और उसका दोस्त खेत में जाने की बात कमला बिश्वास कही. शाम होने के कारण कमला बिश्वास संबंधित महिला को लेकर अपने खेत में पहुंची.

    जैसे ही दोनों खेत पहुंचे तो तालाब परिसर में दोनों बच्चों के शव उन्हें दिखाई दिये. राजु जमीन पर पड़ा होने के कारण कमला विश्वास उसके पास पहुंची और करंट लगने से उनकी मृत्यु हो गयी. इधर कमला बिश्वास के साथ गयी महिला ने सतर्कत बरतते हुए दूर ही रही. और इस घटना की जानकारी ग्रामीणों दी. जिसके बाद ग्रामीणों ने गांव की मुख्य बिजली आपुर्ति ही बंद कर दी.

    घटनास्थल पर पहुंची आष्टी पुलिस

     करंट लगने से तीन लोगों की मृत्यु होने की जानकारी मिलते ही आष्टी पुलिस की टिम तत्काल घटनास्थल पर पहुंचीे. घटना का पंचामा करने के बाद तीनों मृतकों के शवों को पोस्टमार्टम करने के लिये आष्टी के ग्रामीण अस्पताल में भेज दिया. बता दे कि, अनेक किसान अपने खेतों की रखवाली करने के लिये रात के समय खेतों में विद्यूत प्रवाह छोड़ देते है.

    ऐसे में अनेक बार जंगली पशुओं की करंट लगने से मृत्यु होने की घटनाएं घटी है. विशेषत करंट लगाकर पशुओं की जान लेने के सर्वाधिक मामले चामोर्शी तहसील में घटी है. इस घटना की अधिक जांच आष्टी के थानेदार कुमारसिंग राठोड़ कर रहे है.

    विधायक डा. होली ने की मृतकों के परिजनों की सांत्वना

    मंगलवार को घटी इस घटना की जानकारी मिलते ही बुधवार को गड़चिरोली विस क्षेत्र के विधायक डा. देवराव होली ने राममोहणपुर गांव में पहुंचकर मृतकों के परिजनों की भेट ली. वहीं उनकी सांत्वना करते हुए सरकार द्वारा वित्तीय सहायता दिलाने का आश्वासन दिया. साथ ही सरकार मृतकों के परिजनों को 25 लाख रूपये वित्तीय सहायता करें, ऐसी मांग भी उन्होंने की. इस समय बंगाली आघाडी के जिलाध्यक्ष सुरेश शहा, उपसरपंच प्रकाश सरकार समेत ग्रामीण उपस्थित थे.